अस्पतालों से गायब डॉक्टर व स्वास्थ्य कर्मियों पर कब होगी कार्यवाही

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

● खुलासे के बाद भी कार्यवाही न करने से संदेह के घेरे में सीएमओ कार्यालय

● किसे बता कर गायब चल रहे है डॉक्टर व स्वास्थ्य कर्मी

● दोषियों को बचाने में क्यों दिलचस्पी दिखा रहा सीएमओ कार्यालय

● आखिर झूठी रिपोर्ट से शासन को क्यों गुमराह कर रहा स्वास्थ्य विभाग

सोनभद्र । पिछले दिनों ‘जनपद न्यूज Live’ के खुलासा कर बताया कि कैसे स्वास्थ्य विभाग में तैनात कई डॉक्टर व स्वास्थ्य कर्मी वर्षों से घर बैठे वेतन उठा रहे हैं। इतना ही नहीं इन डॉक्टरों व स्वास्थ्य कर्मियों की कमियों को शासन स्तर पर छिपाया भी जा रहा है। अब सवाल यह उठता है कि जब खुद सीएमओ कार्यालय द्वारा अस्पतालों के निरीक्षण कराया गया तो इतनी बड़ी कमी मिलने के बाद भी अब तक कार्यवाही क्यों नहीं हुई? यह सवाल अब लोगों में चर्चा का विषय बनता जा रहा जाए।

नीति आयोग में शामिल जनपद सोनभद्र में स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर करने के लिए सरकार लगातार प्रयास कर रही है लेकिन सीएमओ कार्यालय द्वारा जिस तरीके से खेल खेला जा रहा है वह न सिर्फ सरकार के लिए बल्कि जनपद के लिए भी घातक बनता जा रहा है, क्योंकि जो डॉक्टर या स्वास्थ्य कर्मी अस्पतालों में गायब मिले हैं उनके खिलाफ कार्यवाही करने के बजाय उन्हें बचाया जा रहा है। यहीं कारण है कि दूर दराज की स्वास्थ्य सेवाएं वेंटिलेटर पर चल रही हैं। लोगों का मानना है कि यह वेंटिलेटर तभी हट सकेगा जब स्वास्थ्य विभाग में बैठे भ्रष्ट अधिकारी हटाये जाएंगे।

अब देखना है कि बेहतर स्वास्थ्य सेवाओं का दावा करने वाली सरकार ऐसे भ्रष्ट अधिकारियों पर कब नकेल कसती है ।

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!