विश्व साक्षरता दिवस पर उपक्रम एजुकेशनल फाउंडेशन ने, बच्चों को वर्कबुक के माध्यम से पढ़ाना किया शुरू

संजय केसरी (संवाददाता)

डाला। विश्व साक्षरता दिवस पर उपक्रम एजुकेशनल फाउंडेशन ने विकास खण्ड चोपन क्षेत्र के कोटा ग्राम पंचायत के टोला परासपानी पंचायत भवन में बच्चों को ‘ अक्कू हुई गुस्सा ‘ कहानी सुनाई। जिसमें एक बच्ची स्कूल की छुट्टी के बाद बहुत गुस्सा होती है उसके गुस्सा होने का कारण जब बच्चों को पता चलता है तब बच्चे खूब हंसते हैं। कहानी के बाद एक गतिविधि भी की गई। यह संस्था पिछले दो वर्षों से सोनभद्र में बच्चों की शिक्षा के लिए काम कर रही है। उपक्रम की सह – संस्थापक किरण तिवारी कहती हैं कि पढ़ना – लिखना सिखाने में कहानी सुनाना एक महत्वपूर्ण प्रक्रिया है, कहानी के माध्यम से भाषा के चारो कौशल सुनना, बोलना, पढ़ना और लिखना सब पर काम हो सकता है। इसलिए हम लोग कहानी – कविताओं को जरूर शामिल करते हैं।

करोना वायरस के कारण मार्च से स्कूल बंद है जिससे बच्चों की शिक्षा पूरी तरह से रुक गई थी लेकिन उपक्रम टीम ने इस समस्या का समाधान निकाल लिया और गांव – गांव में बच्चों को वर्कबुक के माध्यम से पढ़ाना शुरू किया। संस्था के दूसरे सह – संस्थापक निखिल शेट्टी कहते हैं कि हमारा उद्देश्य है कि बच्चे घर में सुरक्षित रहते हुए पढ़ाई करते रहें इसलिए हम बच्चों तक पहुंच रहे हैं। इस दौरान पूरी सावधानी रखते हुए बच्चों को बाकायदा एक निश्चित दूरी पर बैठाकर काम किया जाता है। इसलिए आठ से दस बच्चों का समूह बनाकर हर हफ्ते उनके साथ काम करते हैं। संस्था का एक उद्देश्य बच्चों के ‘ लर्निंग आउटकम ‘ को बेहतर करना है, लेकिन इस समय हम सिर्फ बच्चों की रूकी हुई शिक्षा को नियमित करना चाहते हैं ताकि वे किसी दबाव में न रहें।

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!