बाढ़ एवं कटान से निपटने के लिए प्रशासन तैयारियों में जुटा

दीनदयाल शास्त्री ब्यूरो

पीलीभीत । जनपद पीलीभीत बाढ़ के दृष्टि से अतिसंवेदनशील जनपद है, जिसमें मुख्यत शारदा व देवहा नदी में मुख्य रूप से बाढ़ आती है। बाढ़काल के दौरान उक्त नदियों द्वारा कटान किया जाता है। नदियों के कटान से सुरक्षा हेतु इस बाढ़काल से पूर्व शारदा नदी के दायें किनारे पर स्थित मार्जिनल बांध व शारदा सागर डैम तथा निकटवर्ती ग्राम समूहों की सुरक्षा हेतु 01 अदद् बाढ़ परियोजना तथा देवहा नदी पर क्रमशः ग्राम सिमरिया ताराचन्द, गाजीपुर ज्योरहा कल्यानपुर, जगत, बरादुनवा, बरा मझलिया, करखेड़ा, रम्पुरा, ढुक्सी आदि की सुरक्षा हेतु 03 अदद् बाढ़ परियोजना में प्राविधानित कार्य बाढ़काल से पूर्व कराकर सुरक्षा प्रदान की गयी है। उक्त परियोजनाओं में प्राविधानित कार्य करने से लगभग 12 गांव व उनकी 25000 आबादी तथा 330 हे0 कृषि भूमि को सुरक्षित किया गया है, जोकि प्रभावी रूप से कार्य कर रहे हैं।
उक्त के अतिरिक्त बाढ़काल से पूर्व अन्य अतिसंवेदनशील स्थलों पर बाढ़ अनुरक्षण मद के अन्तर्गत मरम्मत सम्बन्धी कार्य कराये गये है, जोकि प्रभावी रूप से कार्य कर रहे हैं। वर्षा अवधि में शारदा के दायें किनारे पर मार्जिनल बांध पर पूर्व निर्मित स्पर सं0-09 ए तथा सनेढ़ी तटबंध के स्पर सं0-16 एवं शारदा नदी के बायें किनारे पर स्थित ग्राम नहरोसा में एवं देवहा नदी के दायें एवं बायें किनारे पर स्थित ग्राम समूहों क्रमशः नगरिया भिकारीपुर रोड़, खलीनबादा, शेखापुर, अर्जुनपुर आदि अतिसंवेदनशील स्थलों पर नदियों द्वारा हो रहे आकस्मिक कटान के कारण ग्राम समूहों व उनकी परिसम्पत्तियों तथा कृषि योग्य भूमि की सुरक्षा हेतु फ्लड फाईटिग कार्य कराकर सुरक्षा प्रदान की जा रही है । वर्तमान में जनपद पीलीभीत के अन्तर्गत कोई भी गांव नदी के कटान से नही कटा है, जिस कारण कोई गांव किसी भी नदी में वर्तमान में विलीन नही हुआ है। वर्तमान में कही भी किसी ग्राम में जलभराव नही है।

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!