कोविड-19 व संचारी रोग नियंत्रण हेतु साफ-सफाई व्यवस्था का रखा जाये विशेष ध्यान- नोडल अधिकारी

दीनदयाल शास्त्री (ब्यूरो)

पीलीभीत । जनपद में कोविड-19 के नियंत्रण एवं संचारी रोग नियन्त्रण, स्वच्छता अभियान/पेयजल आदि की व्यवस्था को लेकर की जा रही कार्रवाई की समीक्षा बैठक अपर मुख्य सचिव, श्रम एवं सेवायोजन विभाग, उत्तर प्रदेश शासन सुरेश चन्द्रा की अध्यक्षता में गांधी सभागार कलेक्ट्रेट में सम्पन्न हुई। बैठक के दौरान नोडल अधिकारी द्वारा कोविड-19 की समीक्षा करते हुये एल वन हाॅपिस्टल व एल टू फैसिलिटी हाॅस्पिटल के बारे में जानकारी प्राप्त की गई, मुख्य चिकित्साधिकारी द्वारा अवगत कराया गया कि जिला महिला चिकित्सालय में 100 बेड का एल टू हाॅॅस्पिटल का संचालन प्रारम्भ कर दिया गया जिसमे 08 वैन्टीलेटर, बाथरूम, शौचालय, पेयजल सहित आदि व्यवस्थाऐं मानक के रूप में सुनिश्चित की गई है। नोडल अधिकारियों द्वारा कोविड-19 के दृष्टिगत जनपद में टेस्टिंग कार्य हेतु नामित पर्यवेक्षण अधिकारी जिला समाज कल्याण अधिकारी को निर्देशित किया गया कि शासन द्वारा निर्धारित लक्ष्य के अनुसार प्रतिदिन टेस्टिंग का कार्य सम्पन्न किया जाये। उन्होंने कहा कि टेस्टिंग के दौरान विशेष ध्यान दिया जाये कि टेस्टिंग टीम के द्वारा व्यक्ति का विवरण व मोवाइल नम्बर सही अंकित किया जाये जिससे व्यक्ति पाॅजिटिव आने पर ट्रेसिंग करने में कोई समस्या न आये, उन्होंने कहा कि कोरोना पाॅजिटिव व्यक्ति पाए जाने पर कान्टेक्ट ट्रेसिंग, होम आईसोलेशन आदि से सम्बन्धित स्वास्थ्य विभाग के सम्बन्धित नोडल अधिकारी तत्काल कार्यवाही सुनिश्चित करें और तत्काल होम आईसोलेशन या एल वन फैसिलिटी में संक्रमित को भर्ती कराया जाये यदि लक्षण परिलक्षित नही है और होम आईसोलेशन में रहना चाहता है तो तत्काल समस्त मानकों को सुनिश्चित करते हुए होमआईसोलेशन कराते हुए उसके मोबाईल में होम आईसोलेशन व आरोग्यसेतु ऐप तत्काल टीम द्वारा अपलोड कराया जाये ओैर साथ ही साथ कानटेक्ट ट्रेसिंग भी तत्काल करा ली जाये। उन्होंने मुख्य चिकित्साधिकारी को कोविड-19 के प्रभाव को रोकने के उद्देश्य से डाक्टरों द्वारा प्अमतउमबजपद ज्ंइसमजे (आईवर मेकटिन-12 एम0जी0) नामक टेबलेट खाने की सलाह दी जा रही है जिसका प्रचार प्रसार कराने हेतु निर्देशित किया गया तथा आम जनमानस को डाॅक्टरों के परामर्श के उपरान्त कोरोना के बचाव हेतु उपरोक्त दवा का सेवन करने हेतु जागरूक करने के लिए निर्देशित किया गया।
बैठक के दौरान नोडल अधिकारी द्वारा होम आईसोलेशन माॅनीटिरिंग टीम, कन्टेक्ट ट्रेसिंग माॅनीटिरिंग टीम, एल वन फैसिलिटी सहित अन्य सूचनाओं के प्रेषण से सम्बन्धित कार्यों की गहनता से समीक्षा की गई।
बैठक के उपरान्त नोडल अधिकारी द्वारा नगर की साफ-सफाई व्यवस्था का निरीक्षण किया गया। इस दौरान उन्होंने आवास विकास कालोनी व गैस चैराहे के पास, मलिन बस्ती का औचक निरीक्षण किया गया व स्थानीय लोगों से दवाई छिडकाव, फाॅगिंग व साफ-सफाई की व्यवस्था के बारे में पूछताछ की गई। इस दौरान खराब हैण्ड पम्प को तत्काल सही कराने हेतु ईओ नगर पालिका को निर्देशित किया गया तथा टीमों का गठन कर रोस्टर वार प्रतिदिन साफ-सफाई व नियमित सैनीटाईजिंग व्यवस्था सुनिश्चित की जाये।
इसके उपरान्त नोडल अधिकारी द्वारा ग्राम सियाबाडी पट्टी व कंजानाथ पट्टी का निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान नोडल अधिकारी द्वारा ग्रामों में संचारी रोग नियंत्रण व साफ सफाई व्यवस्था के सम्बन्ध में निगरानी समिति, ग्राम प्रधानों व आम जनमानस से फीडबैक प्राप्त किया गया। इस दौरान नोडल अधिकारी द्वारा निगरानी समिति से उनके कार्याे एवं दायित्वों के बारे में पूछे जाने पर निगरानी समिति के सदस्यों द्वारा अवगत कराया गया कि लोगों को नियमित मास्क लगाने हेतु व साबुन से हाथ धुलने व साफ सफाई पर विशेष ध्यान रखने हेतु जागरूक किया जाता है। इस दौरान नोडल अधिकारी द्वारा लोगो को गर्म पानी पीने के साथ ग्राम प्रधान को क्लोरिन की गोलियां वितरित कराने हेतु निर्देशित किया गया।
बैठक में पुलिस अधीक्षक जय प्रकाश, मुख्य विकास अधिकारी श्रीनिवस मिश्र, मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 सीमा अग्रवाल, अपर जिलाधिकारी (वि./रा.) अतुल सिंह,, जिला विकास अधिकारी योगेन्द्र पाठक, नगर मजिस्ट्रेट अरूण कुमार सिंह, अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 अश्वनी सिंह, परियोजना निदेशक अनिल कुमार, जिला समाज कल्याण अधिकारी के0पी0सिंह, जिला कृषि अधिकारी विनोद कुमार सहित अन्य अधिकारीगण व स्वास्थ्य विभाग अधिकारी/चिकित्सक उपस्थित रहे।

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!