धरकर समाज को आत्मनिर्भर बनाने के लिए बांस के उत्पाद बनाने का प्रशिक्षण शुरू

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । आदिवासी धरकार समाज जो परम्परागत तरीके से बास से विभिन्न उत्पाद तैयार करते हैं, उनको उनके उत्पाद का मुनासिब कीमत मुहैया कराने व उनके उत्पादों को बेहतर मार्केटिंग उपलब्ध कराने के लिए आत्मनिर्भर भारत अभियान के अन्तर्गत आदिवासी निर्धन समुदाय को आत्मनिर्भर बनाने के लिए बास से उपयोग की विभिन्न सामग्री बनाने के लिए प्रशिक्षण कैम्प प्राथमिक विद्यालय पटवध-प्रथम परिसर में जिलाधिकारी एस0 राजलिंगम व पुलिस अधीक्षक आशिष श्रीवास्तव ने धरकार समाज की महिला को सम्मानित करते हुए प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ महिला से ही फीता काटवाकर किया।

जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक ने दीप प्रज्जवलित कर धार्मिक अनुठानों का पालन करते हुए बास से सामग्री बनाने के धरकार समाज के प्रशिक्षण का शुभारंभ किया। जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक ने जनजाति धरकार समाज के परम्परागत बास के उत्पादों को देखा और मार्केटिंग को बेहतर बनाने यानी उनके उत्पादों का बेहतर दाम दिलाने के प्रयास करने का भरोसा दिलाया और कहा कि लगातार 12 दिनों तक प्रशिक्षण में बेहतर तकनीक की जानकारी दिये जाने के साथ ही रोजाना दो-दो सौ रूपये प्रशिक्षण प्रोत्साहन राशि भी दी जा रही है। उन्होंने कहा कि प्रशिक्षण देने के बाद बेहतर तरीके से बास का उत्पाद तैयार करने के लिए औजार यानी तकनीकी सामग्री भी उपलब्ध करायी जायेगी, इसके साथ ही एनआरएलएम द्वारा आर्थिक मदद दी जायेगी और बैंक लोन व सीसीएल भी मुहैया कराया जायेगा। उन्होंने कहा कि सदियों से यह धरकार समाज परम्परागत तरीके से बास से विभिन्न प्रकार के उत्पाद तैयार करते हैं, जिनका बेहतर कीमत न मिलने से धरकार समाज को उनकी मेहनत का मुनासिब कीमत नहीं मिल पा रही थी, अब धरकार समाज के परम्परागत बास के उत्पादों को बेहतर मार्केटिंग देकर सोनभद्र ही नहीं सोनभद्र से बाहर प्रदेश व देश स्तरों पर इनके उत्पादों को मार्केटिंग उपलब्ध कराकर इन्हें आत्मनिर्भर बनाने के साथ ही इनका आर्थिक विकास भी किया जायेगा।

परम्परागत बास से उत्पादन सम्बन्धी प्रशिक्षण कार्यक्रम में जिला विकास अधिकारी रामबाबू त्रिपाठी, उप जिलाधिकारी सदर डॉ0 कृपा शंकर पाण्डेय, डीसी एनआरएलएम ए0के0 जौहरी, जिला प्रबन्धक एम0जी0 रवि, खण्ड विकास अधिकारी चोपन श्रवण राय, आरसेटी के निदेशक रवि रंजन कुमार सहित अन्य सम्बन्धितगण मौजूद रहे।

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!