लैम्पस पर किसानों को नहीं मिल पा रहा है खाद, उमडी भीड़

पी.के. विश्वकर्मा (संवाददाता)

-सोशल डिस्टेंस की उड रही है धज्जियां, खाद लेने के लिए मारामारी

कोन। इन दिनों खाद को लेकर लैम्पस पर किसानों को कड़ी मशक्कत के साथ मारामारी करने की नौबत आ जा रही है,सुबह से ही क्षेत्र के किसान खाद के लेने के लिए सहकारी समिति पर दिनभर लाइन लगाकर खडे होने को विवश है, तमाम किसान दिनभर लाइन मे खडे होने के वाउजूद भी निराश वापस होने को मजबूर है।
क्षेत्र के कचनरवा लैम्पस पर बृहस्पतिवार को हजारों किसानों धक्का मुक्की करते देखे गये, क्षेत्र के सीताराम यादव,मिश्रीलाल पासवान, राम परिखा, सुधीर श्रीवास्तव, उमाशंकर जायसवाल, रमेश यादव सुरेंद्र नाध,अमरेश यादव समेत दर्जनों किसानों की माने तो लगाकर तीन दिनों से कोन व कचनरवा लैम्पस का चक्कर लगाते लाइन लगा कर दिन भर खडे रहे इसके वाउजूद भी खाद न मिलने से बाजारों मे महगे दामों पर खरीदने को मजबूर हुये लोगों का मानना है कि 2000 बोरी के सापेक्ष मात्र 300-400 बोरी खाद मिलती है जो आते ही लोग जुगाड़ वालों को वितरण करने का आरोप लगाते हुये,नियमानुसार वितरण करने की मांग किया, बृहस्पतिवार को कचनरवा व कोन लैम्पस पर किसानों की भीड इस कदर रही कि लोग आपस मे नोकझोंक, धक्का मुक्की करते देखे गये,कई बार बीच बीच मे वितरण रोका गया।

शिकायत पर पहुंचे मंडल अध्यक्ष सुनील जायसवाल ने समझाते बुझाते किसी प्रकार नियमानुसार वितरण शुरू कराया, किसानों ने खाद का आवटन बढाने की मांग किया, लैम्पस सचिव कचनरवा बासुदेव यादव ने बताया कि खाद आवश्यकता अनुसार नहीं मिल पा रही है यहां लगभग 1500 बोरी की आवश्यकता है जिसके सापेक्ष मात्र 400 बोरी खाद प्राप्त हुआ है जिसे वितरण किया जा रहा है किसानों ने बताया कि बाजार मे 450 से 480 रू बोरी खाद मिल रहा है जिससे किसानों के जेब ढिली पड़ जा रही है, किसानों ने जिलाधिकारी का ध्यान इस ओर आकर्षित कराते हुये प्रयाप्त खाद आवंटन की मांग किया है।

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!