खनन माफियाओं पर शिकंजा, अवैध खनन करने वाले कई माफिया प्रशासन के रडार पर

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

फाइल फोटो

● 135 माफियाओं की सूची तैयार

● अवैध खनन करने वालों के संपत्ति को खंगाल रहा प्रशासन

● अब तक 9 करोड़ की संपत्ति हो चुकी है कुर्क

● अब खनन माफियाओं पर होगी जिला प्रशासन से लेकर खुफिया तंत्र की पैनी निगाह

● प्रशासन का अपराध मुक्त जिला बनाने की दिशा में चल रहा बड़ा कदम

● खनन में बर्चस्व को लेकर हो चुकी है हत्या भी

सोनभद्र । यूपी में बढ़ते अपराध को कम करने के लिए योगी सरकार लगातार नए-नए प्रयोग करती रही हैं। कानपुर के बिकरु कांड के बाद सीएम योगी ने अपराधियों पर लगाम लगाने के लिए प्रशासन व पुलिस को खुली छूट भी दे रखी है। इसके मद्देनजर जनपद सोनभद्र में जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक की रणनीति माफियाओं की कमर तोड़ दी है ।
दरअसल सोनभद्र में खनन पहले सिर्फ लोगों की रोजी-रोटी से जुड़ा था, मगर पिछले कुछ वर्षों में खनन क्षेत्र में बढ़ते वर्चस्व ने कई माफियाओं को जन्म दे दिया, जिसका अंजाम हत्या तक जा पहुंचा।
सीएम योगी के निर्देश के बाद प्रशासन ने विभिन्न मामलों में अब तक 135 माफियाओं को चिन्हित किया है। जिन पर गैंगस्टर जैसी कार्यवाही के साथ कुर्क की भी कार्यवाही की जा रही है ।

फाइल फोटो

सोनभद्र, एक ऐसा जनपद जो उत्तर प्रदेश को दूसरे नम्बर पर सबसे ज्यादा राजस्व देता है। मगर कुछ वर्षों से सोनभद्र के खनन क्षेत्रों में बढ़ते अपराध ने शासन से लेकर प्रशासन तक चिंताएं बढ़ा दी है । मगर सीएम योगी द्वारा अपराध पर नियंत्रण करने के लिए जिला प्रशासन से लेकर पुलिस प्रशासन तक छूट दिए जाने के बाद जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक ने ताबड़तोड़ 135 माफियाओं की सूची तैयार कर ली। 135 माफियाओं की इस सूची में सबसे ज्यादे नाम खनन क्षेत्रों से है।

आपको बतादें कि अब तक खनन क्षेत्रों में अवैध खनन होते रहे हैं जिसको लेकर समय-समय पर लोगों द्वारा धरना प्रदर्शन भी किये जाते रहे हैं लेकिन कोई खास कार्यवाही न होने के कारण अवैध खनन माफियाओं के हौसले बुलंद होते चले गए और फिर यह वर्चस्व हत्या तक पहुंच गया।

मगर जनपद सोनभद्र में पहली बार डीएम व एसपी ने मिलकर अवैध कार्य करने वाले माफियाओं की सूची भी तैयार की है। जिससे एक बात साफ हो गया कि ये माफिया लम्बे समय से गैंग बनाकर अवैध कार्य को अंजाम दिया करते थे।

मुख्यमंत्री से मिली छूट के बाद पहली बार अवैध काम करने वाले माफियाओं को लेकर जिलाधिकारी एस0राजलिंगम भी काफी सख्त रुख अपनाए हुए हैं। जिलाधिकारी का कहना है कि “ये माफिया सिंडिकेट बनाकर अपराध करते थे। इतना ही नहीं निर्धारित स्थान को छोड़कर बाहर खनन करते हैं। उनका कहना है कि ऐसे माफियाओं के खिलाफ पहले सिर्फ हल्की धाराओं में कार्यवाही हुआ करती थी मगर अब गैंगस्टर के साथ कुर्क की कार्यवाही की जा रही है।”

अपराधियों की कमर तोड़ने में एसपी का भी अहम रोल है। डीएम के साथ एसपी की ट्विनिंग इन दिनों सोनभद्र में माफियाओं के खिलाफ कहर बनकर टूट रहा है। जैसे-जैसे माफियाओं की संपत्ति का ब्यौरा पुलिस अधीक्षक को मिल रहा है, वैसे-वैसे माफियाओं की कुर्क की कार्यवाही भी तेज हो रही है। यहीं कारण है कि अब तक प्रशासन ने 9 करोड़ की संपत्ति कुर्क कर ली।

पुलिस अधीक्षक आशीष श्रीवास्तव ने बताया कि “इस कार्यवाही से जहां माफियाओं के हौसले टूटेंगे वहीं उनके द्वारा कमाई गयी अवैध धन भी जपत कर लिया जाएगा, जो आगे आने वाले बदमाश व माफियाओं के लिए एक संदेश भी होगा।”


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!