सुशांत सिंह के मौत के मामले में ईडी ने मनी लॉन्ड्रिंग को लेकर शौविक से की मैराथन पूछताछ

एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या मामले में रिया चक्रवर्ती और उनके परिवार पर शिकंजा कसता जा रहा है। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने रिया चक्रवर्ती के भाई शौविक चक्रवर्ती से मैराथन पूछताछ की है । ईडी ने मनी लॉन्ड्रिंग को लेकर शौविक से 18 घंटे तक पूछताछ की ।

इससे पहले शुक्रवार को भी ईडी ने शौविक से 2 घंटे पूछताछ की थी । वहीं, सुशांत सिंह राजपूत की गर्लफ्रेंड रहीं रिया चक्रवर्ती से ईडी ने शुक्रवार को 9 घंटे पूछताछ की थी । ईडी अब तक रिया के साथ उनके भाई शौविक, सुशांत सिंह राजपूत की मैनेजर श्रुति मोदी और सीए रितेश शाह से पूछताछ कर चुकी है । सुशांत के पिता ने रिया और उनके परिवार पर 15 करोड़ रुपये की हेराफेरी का आरोप लगाया है ।

ED के सूत्रों ने बताया है कि पूछताछ के दौरान रिया का भाई शौविक पूछताछ में सहयोग नहीं कर पा रहा था और सवालों का जवाब भी नहीं दे रहा था । शौविक पूछताछ के दौरान कुछ वित्तीय लेन-देन के कुछ सवालों का जवाब भी नहीं दे पाया । शौविक को जब ED अधिकारियों ने बैंक स्टेटमेंट दिखाए तो वह कुछ खर्चों के बारे में जानकारी नहीं दे पाया । माना जा रहा है कि ED शौविक को पूछताछ के लिए फिर से बुला सकती है ।

वहीं, बिहार पुलिस ने सीबीआई को सुशांत केस से जुड़े तमाम दस्तावेज सौंप दिए हैं । सीबीआई ने सुशांत सिंह केस में सुप्रीम कोर्ट से उन्हें भी पक्षकार बनाने की मांग की है ।

सुशांत सिंह राजपूत के पिता केके सिंह और उनकी बहन रानी सिंह ने शनिवार को हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर से मुलाकात की । सुशांत के पिता केके सिंह को सांत्वना देते हुए सीएम खट्टर ने कहा कि पूरा मामला CBI को ट्रांसफर होने के बाद अब उन्हें न्याय अवश्य मिलेगा। सुशांत सिंह के जीजा ओपी सिंह फरीदाबाद के पुलिस कमिश्नर हैं ।

उधर सुशांत सिंह आत्महत्या केस में महाराष्ट्र सरकार ने शनिवार को सुप्रीम कोर्ट में जवाब दाखिल किया । इसमें महाराष्ट्र सरकार ने सीबीआई जांच का विरोध किया है. महाराष्ट्र पुलिस ने कहा कि जब मामला सुप्रीम कोर्ट में लंबित है तो सीबीआई को ना तो केस दर्ज करना चाहिए था और ना ही जांच टीम बनाकर आगे बढ़ना चाहिए था । सीबीआई को सुप्रीम कोर्ट के फैसले तक रुकना चाहिए था ।

आपको बतादें कि रिया से ईडी ने शुक्रवार को लगभग 9 घंटे की पूछताछ की थी । रिया से उनकी चल-अचल संपत्ति से लेकर उनकी पिछले तीन साल में रहे इनकम सोर्स और शौविक की फर्म तक के बारे में पूछताछ की गई है । वहीं, रिया चक्रवर्ती ने ऑडिटर्स की रिपोर्ट ईडी को सौंप दी है, जिसमें उन्होंने बताया कि किस आधार पर उन्हें खार वाले फ्लैट के लिए लोन मिला था ।

पूछताछ में रिया ने ईडी की टीम को बताया कि कुछ रकम कंपनी का लेखा-जोखा रखने वाले दो चार्टर्ड अकाउंटेंट्स के नाम दो करोड़ 65 लाख रुपये ट्रांसफर किए गए।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!