ग्रामीण न्यायालय का किया गया शुभारंभ,जमीन पर उतरेगा त्वरित न्याय

संजीव कुमार पांडेय (संवाददाता)

राजगढ़ । मड़िहान तहसील में आज शाम ग्रामीण न्यायालय का शुभारंभ प्रशासनिक न्यायमूर्ति उच्च न्यायालय इलाहाबाद लखनऊ खंडपीठ राजन रॉय के निर्देश पर जनपद न्यायाधीश लालचंद्र गुप्ता ने फीता काटकर किया। सिविल जज जूनियर डिविजन सुमित पराशर पहले न्यायाधीश होंगे। सर्वप्रथम उप जिलाधिकारी शिवप्रसाद ने बुके भेंट कर जनपद न्यायाधीश का स्वागत किया गया।
न्यायाधीश ने कहा कि त्वरित न्याय को जमीन पर उतारने के लिए मड़िहान पिछड़े क्षेत्र में ग्राम न्यायालय का शुभारंभ किया गया है, इससे जनता को सीधा लाभ मिलेगा। दो साल तक की सजा वाले मुकदमों की सुनवाई का अधिकार इस न्यायालय को रहेगा। ग्राम न्यायालय खुलने से जहां एक ओर ग्रामीणों को सहूलियत मिलेगी वहीं वादों के निपटारे में भी जल्दी होने के आसार हैं। क्षेत्र के लोगों को भाड़ा-किराया लगाकर मीरजापुर शहर का रुख करना पड़ता था। वहीं अब उनके मुकदमों की फाइल ट्रांसफर होकर मड़िहान तहसील के दूसरे तल पर ही सुनी जाएगी। कम खर्चे में ही ग्रामीण मुकदमों की पैरवी आसानी से कर सकेंगे। न्यायमूर्ति वीरनायक सिंह, अपर जनपद व सत्र न्यायाधीश भगवती प्रसाद सक्सेना, न्यायाधीश अच्छेलाल सरोज, एससी एसटी न्यायाधीश संजय हरि शुक्ला, अपर जनपद न्यायाधीश फास्ट ट्रैक जितेंद्र मिश्रा, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट इंद्रजीत सिंह, अपर सिविल जज जुडिशियल सौरभ श्रीवास्तव, तहसीलदार ओम प्रकाश पांडेय आदि उपस्थित रहे।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!