लॉकडाउन से सबसे ज्यादा प्रभावित हैं,मिडल क्लास समाज के लोग : रवि पांडेय

संदीप भेलारी (संवाददाता)
– लॉकडाउन की अवधि बढ़ते ही चिंतित हुए मिडल क्लास एवं दैनिक मजदूर

सासाराम रोहतास । विश्वव्यापी महामारी कोरोना की त्रासदी के कारण लॉकडाउन के इक्कीस दिन बाद एक बार फिर तीन मई तक के लिए बढाई गई लॉक डाउन से बढ़ाने की घोषणा के बाद मिडल क्लास समाज के लोग काफी चिंतित हो गए हैं। इस लॉक डाउन से सबसे ज्यादा कष्ट एवं नुकसान मिडल क्लास समाज श्रेणी के लोगों के साथ है। ये समाज ना तो किसी से मुफ्त का राशन मांग सकता हूं और ना हीं अपना कष्ट किसी को बता सकता है।
सरकार के तरफ से इस समाज के लोगों को सहायता नही मिल रही है, और ना हीं समाजसेवी एवं राजनैतिक व्यक्तियों के तरफ से।इसी वजह से इस समाज के लोगों की स्थिति भयावह होती चली जा रही है। इस विषय पर चर्चा करते हुए समाजसेवी रवि भूषण पांडेय ने बताया कि स्थानीय प्रशासन, प्रखंड, पंचायत अधिकारी, प्रखंड प्रमुख एवं पंचायत के मुखिया अगर अपने अपने क्षेत्र के मिडल क्लास समाज को चिन्हित करें जिन्हें किसी भी प्रकार की सहायता नही मिल रही है, और उन्हें इस विपदा में मानवता की पहचान देते हुए उन्हें सहायता कर मानवता की रक्षा करें।अगर इस समाज के व्यक्तियों को समय रहते सहायता नही मिलती है तो ये कुपोषण का शिकार होकर असमय काल का ग्रास बन जाएंगे।मैं मीडिया के माध्यम से बिहार सरकार, जिला प्रशासन, प्रखंड एवं पंचायत के अधिकारियों से आग्रह एवं अपील करता हूँ कि इस विषम समस्या की तरफ अपना ध्यान आकृष्ट करे एवं ऐसे परिवार को चिन्हित कर सहायता प्रदान करे।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!