सामाजिक सम्मान व सामाजिक दूरी को भूल रहे समाज सेवक

मनोहर गुप्ता (संवाददाता)
* सहयोग को सोशल मीडिया पर कर रहे इजहार।

डीडीयू नगर। कातिल बन कर सामने आया कोरोना वायरस के संक्रमण दुनिया के सभी देश प्रभावित हैं।भारत में भी इसका प्रभाव बढ़ता जा रहा है।सरकार ने इनसे बचने एक लिए लॉक डाउन का नियम लगाया है।ताकि सामाजिक दूरी बनी रहे है।ऐसे समय मे लोगों के लिए रोजी रोटी का संकट खड़ा है।लेकिन समाज सेवक लोगों तक सामान पहुंचा रहे हैं।इस सहयोग से सामाजिक संम्मान को ठेस पहुंच रही है।सामाजिक दूरी का मान नहीं रखते हैं।सहयोग को सीधे सोशल मीडिया के प्लेटफार्म पर डाल दे रहे हैं।इस पर प्रशासन सख्त हो गया है।
देश में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। इससे मौत की संख्या बढ़ रही है।लॉक डाउन का नियम लगाए लगभग पन्द्रह दिन हो गए है।लॉक डाउन की सीमा और बढ़ाने के लिए मंथन जारी है।प्रदेश में भी मरीजों की संख्या बढ़ रही है।सरकार ने 15 जिलों को चिन्हित किया है।इन जिलों हॉट स्पॉट जगहों को सील कर दिया है। सरकार व प्रशासन मदद के लिए हाथ बढ़ाएं लोगों के कदम रोकने के प्रयास कर रही है। सहयोग करने वाले सामाजिक दूरी के मानक का पालन नहीं कर रहे हैं।सहयोग करने के दौरान एक साथ कई लोग खड़े हो जा रहे हैं।यही नहीं सहयोग के साथ सेल्फी भी ली जा रही है। चर्चा है कि बहुत से लोग सहयोग करने के बाद फोटो को खींच कर फेसबुक,टवीटर, इंस्टाग्राम, व्हाट्सएप आदि सोशल मीडिया मंचों पर डाल दे रहे हैं।जिससे इन लोगों को सामाजिक सम्मान मिल रहा है लेकिन जिसे सहयोग दिया गया है।उससे शर्मिंदगी उठानी पड़ सकती है।अब लोग इस प्रकार के सहयोग व सोशल मीडिया के उपयोग पर सवाल उठा रहे हैं। 24 मार्च से लागू लॉक डाउन से अब तक सहयोग करने वालों की लंबी फौज खड़ी थी।इससें राजनीतिक दल,सामाजिक संस्थाएं ,व्यक्तिगत लोग शामिल रहे। इस दौरान समाजिक दूरी का मान नहीं रहा।सरकार बार बार समाजिक दूरी के लिए आगाह व जागरूक कर रही है।सामाजिक दूरी ही इस संक्रमण के बचाव का उपाय है।लोगों को लोगों के उचित सम्मान व सामाजिक दूरी का मान रखना चाहिए।ताकि कातिल कोरोना के संक्रमण को फैलाव से रोका जा सके व बचाव किया जाए



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!