शब ए बारात पर कोन क्षेत्र के जामा मस्जिद व कब्रिस्तान पर किसी प्रकार का आयोजन नहीं होगा – अब्दुल राजीक

पी.के. विश्वकर्मा (संवाददाता)

कोन। कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने के लिए पूरे देश मे लाक डाउन के मद्देनजर मोहतरम हजरत आपको यह इत्तला दी जाती है कि इस वक्त हिंदुस्तान में कोविड-19 कोरोना नाम के वायरस से हर इंसान परेशान है, पूरे मुल्क में लाक डाउन लगा हुआ है। ऐसी सूरत में अंजुमन कमेटी कोन ने यह फैसला लिया है कि जामा मस्जिद कोन,देवाटन समेत क्षेत्र के सभी मस्जिदों में इस साल शबे बारात के मौके पर किसी भी तरह का कोई प्रोग्राम नहीं रखा जाएगा। जिन हजरात को शब बेदारी, इबादत नवाफिल, तिलावते कुरान ए पाक वजायफ, दुआ करना है वह अपने अपने घरों पर ही इबादत करेंगे। कब्रिस्तान पर फातिहा पढ़ने जाने से बचें व घर से ही मरहूमीन के लिये दुवाएँ करे। मुल्क के अमन ओ अमान की हिफाजत करें। गवर्नमेंट और माहरीन का जो फैसला है उस पर अमल करें और सोशल डिस्टेंसिंग बनाये रखें। अगर बहुत जरूरी ना हो तो घर से बाहर कतई ना निकले। अगर आपके मोहल्ले में या आपके घर के अगल-बगल कोई ऐसा शख्स है जो भूखा हो उसका हमेशा ख्याल रखें। हर हिंदुस्तानी को इस वबा से छुटकारा मिले इसके लिए खास दुआओं का एहतेमाम अपने-अपने घरों पर करें और अच्छा मुसलमान तथा सच्चे भारतीय होने का सबूत दें। उक्त बाते क्षेत्र के इलाकाई सदर अब्दुल राजीक ने देते हुये कहा कि सभी अंजूमन कमेटी अपने अपने क्षेत्रों मे जागरूक करे व घरों मे ही नमाज अदा करें।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!