सच्चे मन से हनुमान जी की उपासना करने से बल, बुद्धि, विद्या का होता हैं आशीष प्राप्त

अतुल बलशाली हनुमान जी की कृपा से सभी बाधाएं दूर हो जाती हैं। भगवान श्रीराम का स्मरण करने मात्र से हनुमान जी प्रसन्न हो जाते हैं। सच्चे मन से हनुमान जी की उपासना करने से बल, बुद्धि, विद्या का आशीष प्राप्त होता है। संकट कटे मिटे सब पीरा, जो सुमिरे हनुमत बलबीरा… का उच्चारण करने मात्र से आरोग्य का वरदान मिलता है।

हनुमान जी के मंदिर में लाल ध्वज अवश्य अर्पित करें। यह ध्वज तिकोना होना चाहिए और इस पर श्रीराम लिखा होना चाहिए। इस ध्वज को वाहन पर लगाने से दुर्घटनाओं से सदैव बचाव होता है। प्रत्येक मंगलवार हनुमान जी का सिंदूर से पूजन करने से समस्त दुखों से मुक्ति मिलती है। हनुमान जी को नारंगी रंग का सिंदूर अर्पित करें। बिना सिंदूर, चमेली का तेल न अर्पित करें। रोजगार नहीं है तो हनुमान जी को मंगलवार को पान का बीड़ा नियम से अर्पित करें। ऐसा करने से नौकरी में भी उन्नति के मार्ग प्रशस्त होंगे। हनुमान जी की पूजा के समय लाल रंग के वस्त्र धारण करें। मंगलवार शाम बूंदी के लड्डू का प्रसाद बांटने से संतान संबंधी समस्या दूर होती हैं। मंगलवार को हनुमान जी के पैरों में फिटकरी रखने से बुरे सपनों से मुक्ति मिलती है। मंदिर में जाकर रामरक्षास्त्रोत का पाठ करने से सारे बिगड़े काम बन जाते हैं। नित्य प्रति हनुमान चालीसा का पाठ अवश्य करें। हनुमान जी को चमेली का तेल अर्पित करने से नेत्र ज्योति बढ़ती है। हनुमान जी के समक्ष चमेली के तेल का दीप प्रज्ज्वलित करने से शत्रु बाधा दूर होती है। हनुमान जी तुलसी दल से तृप्त होते हैं। उनको अर्पित किए तुलसी दल का सेवन करने से स्वास्थ्य उत्तम रहता है।

नोट:
इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!