कानपुर में अचानक भड़का बवाल, पथराव और आगजनी

कानपुर में शुक्रवार को हुए बवाल में गोली लगने से मरने वालों को मुआवजे सहित कई मांगों को लेकर शुरू हुआ प्रदर्शन शनिवार को अचानक हिंसक हो गया। यतीमखाना पर जुटी भीड़ ने परेड की ओर बढ़ने का प्रयास किया। पुलिस ने कड़ाई से उन्हें रोका तो भीड़ ने पुलिस पर पथराव कर दिया। अचानक पेट्रोल बमों से हमला शुरू हो गया। इसी बीच कुछ उपद्रवियों ने यतीमखाना पुलिस चौकी में आग लगा दी जिससे वहां खड़ीं पुलिस की दो कारें और दो बाइकें जल गईं। बवाल के दौरान की गई फायरिंग में जहां दो सिपाहियों को गोली लगी है वहीं एक सिपाही और सीओ पथराव में घायल हो गए। पुलिस ने किसी तरह से भीड़ को खदेड़ा और बिजली काट दी। इसके बाद भी खबर लिखे जाने तक बवाल जारी था।

सुबह से माहौल लगभग शांत था। दोपहर होते-होते भीड़ पहले हलीम मुस्लिम कॉलेज चौराहा और फिर यतीमखाना पर जमा होना शुरू हो गई थी। लगभग सवा तीन बजे भीड़ ने नारेबाजी शुरू कर दी। शुक्रवार की ही तरह उपद्रवियों ने फिर परेड की ओर बढ़ना शुरू किया। किसी तरह से पुलिस ने गाड़ियां लगाकर उन्हें रोकने का प्रयास किया, जिस पर भीड़ उग्र हो गई और उसमें शामिल कुछ उपद्रवियों ने पथराव कर दिया। पथराव में सीओ सैफुद्दीन बेग घायल हो गए जबकि सिपाही प्रवीण का सिर फट गया। पुलिस ने सख्ती दिखाते हुए बवालियों को खदेड़ दिया।

भीड़ ने पहले एकता चौकी पर कब्जा करने का प्रयास किया लेकिन जब पुलिस ने रोका तो भीड़ यतीमखाना चौकी पर पहुंच गई। यहां पुलिस चौकी में आग लगा दी जिसमें चौकी इंचार्ज की एक सरकारी और निजी बाइक जल गई और एक अन्य दरोगा की कार व बाइक जल गई। आगजनी के समय चाकी इंचार्ज मोहम्मद आरिफ अंदर ही फंस गए। उन्हें किसी तरह बचाया गया।

हालात को काबू में करने के लिए पुलिस ने भीड़ को यतीमखाना चौराहे से आगे तक खदेड़ दिया। इस बीच इलाके की बिजली काट दी गई। अंधेरे का फायदा उठाकर उपद्रवियों ने पुलिस पर पेट्रोल बम फेंकना शुरू कर दिया। एक धार्मिक स्थल सहित तमाम घरों से पत्थर चलने लगे। जगह-जगह से फायरिंग होने लगी। जब तक पुलिस को कुछ समझ आता तब तक गाजियाबाद निवासी सिपाही अर्पित के कंधे में गोली लग गई। एक अन्य सिपाही की कमर में गोली लगी है।

यतीमखाना और हलीम मुस्लिम पर बवाल चल ही रहा था कि तब तक नई सड़क पर भी पथराव शुरू हो गया। यहां भी पुलिस ने उपद्रवियों को किसी तरह से खदेड़ा। नई सड़क के अलावा भी कई जगहों पर पत्थर चले।

समाचार लिखे जाने तक मुस्लिम बाहुल्य वाला एक बड़ा इलाका उपद्रवियों की गिरफ्त में आ चुका है। तमाम गलियों से फायरिंग और पथराव जारी है। पुलिस आंसू गैस के गोले छोड़ रही है।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!