जु0 प्राथमिक विद्यालयों में नहीं बटा स्वेटर, बच्चों की संख्या घटी

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

– भीषण शीतलहर के बावजूद नहीं कि गयी विद्यालयों की छुट्टियाँ

– स्वेटर वितरण न होने से ठिठुरने को मजबूर नौनिहाल

– आज आनन-फानन में शिक्षा विभाग ने बाँटवाये कुछ स्वेटर, टीचरों ने कहा स्वेटर है अनसाइज, होगा वापस

– ठण्ड को देखते हुए प्राथमिक शिक्षक संघ ने खोला मोर्चा

– प्राथमिक शिक्षक संघ की माँग शीतलहर कर मद्देनजर बन्द हो विद्यालय

– प्राथमिक शिक्षक संघ बोला बच्चों के साथ हुई अनहोनी की जिम्मेदारी शिक्षकों की नहीं वरन जिला प्रशासन होगा जिम्मेदार

सोनभद्र । ठण्ड चरम पर है और शीतलहर ने पूरे प्रदेश को हिला कर रख दिया है। इसी कारण प्रदेश के कई जिलों में स्कूलों की छुट्टियाँ कर दी गईं हैं। मगर जनपद सोनभद्र में आज न्यूनतम तापमान 10डिग्री के नीचे पहुंचने के बावजूद भी स्कूलों की छुट्टियां नहीं की गई हैं। बच्चे बिना स्वेटर के ही ठिठुरते हुए स्कूल पहुंचने को मजबूर हैं । हालांकि स्कूलों में बच्चों की संख्या नाम मात्र की ही दिखाई पड़ रही है। मगर जिले के हाकिम न तो स्कूलों को बंद करने के आदेश जारी कर रहे हैं और न ही बच्चों को स्वेटर मुहैया करा पा रहे हैं।
दूध में पानी मिलाने की घटना हो या फिर रोटी के साथ नमक परोसने का मामला, हर परिस्थिति में कार्यवाही की गाज शिक्षकों पर ही गिरी, इसी से सबक लेते हुए इस बार प्राथमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष ने भी शासन-प्रशासन के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।

प्राथमिक शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष योगेश पांडेय का कहना है कि “ज्यादातर स्कूलों में स्वेटर नहीं बटें हैं। ऐसे में उनकी माँग है कि या तो बच्चों में तत्काल स्वेटर वितरित कर दिया जाय या स्कूल बंद रखा जाय। अन्यथा बच्चों के साथ किसी भी अनहोनी के लिए शिक्षक जिम्मेदार नहीं होगा और इसकी सम्पूर्ण जिम्मेदारी शासन-प्रशासन की होगी।”

शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष के बयान व कड़ाके की ठण्ड को देखते हुए जनपद न्यूज़ live की टीम ने कई स्कूलों पर जाकर हकीकत जाना।

पड़ताल नं0 1 “उच्च प्राथमिक विद्यालय पकरी”-

जनपद न्यूज़ live की टीम सबसे पहले उच्च प्राथमिक विद्यालय पकरी पहुँची। वहाँ उच्च प्राथमिक विद्यालय में ज्यादातर बच्चों के पास स्वेटर नहीं थे । लेकिन बच्चे इस भीषण ठण्ड में भी ठिठुरते हुए पढ़ने को मजबूर दिखे।

जब जनपद न्यूज़ live की टीम ने बच्चों से स्वेटर मिलने के बारे में जानकारी ली तो बच्चों ने बताया कि अभी तक स्वेटर नहीं मिला है। ठण्ड में स्कूल आने की इच्छा तो नहीं होती लेकिन पढ़ने के लिए आते हैं। बच्चों ने बताया कि दूसरे छात्र भीषण ठण्ड के कारण स्कूल नहीं आये हैं।

इस बाबत जब उच्च प्राथमिक विद्यालय के प्रधानाचार्य इंदु प्रकाश सिंह से बात कि गयी तो उन्होंने बताया कि “अभी तक स्वेटर वितरण नहीं हो पाया है, आज कक्षा 6 के बच्चों को स्वेटर वितरित करने के लिए बुलाया गया था और कुछ स्वेटर दिया गया है लेकिन साइज छोटी होने के कारण ज्यातर बच्चों में नहीं बंट पाया।”

इसके बाद जनपद न्यूज़ live की टीम ने उच्च प्राथमिक विद्यालय मल्टीस्टोरी पहुँची। वहाँ की भी स्थिति एक जैसी ही थी। यहाँ भी बच्चों के बीच स्वेटर वितरित नहीं किया गया है।

इस बाबत जब विद्यालय की प्रधानाचार्या सुमन त्रिपाठी ने बताया कि “आज कक्षा 6 के बच्चों को स्वेटर वितरण करने के लिए मिला है लेकिन साइज छोटी होने के कारण स्वेटर वितरण नहीं हो पा रहा।”

वहीं मल्टीस्टोरी में स्कूल कक्ष को स्वेटर गोदाम बनाये जाने से बच्चों को हो रही दिक्कत की भी पोल खुल गयी। एक कमरे में कक्षा 1, 2 व 3 की पढ़ाई चल रही है जबकि दूसरे कमरे में 4 और 5 की पढ़ाई चल रही है।

आप समझ सकते हैं कि बच्चों के भविष्य के साथ किस तरह से अधिकारी मजाक कर रहे हैं। मजे की बात यह है कि यह सब उस जनपद में हो रहा है जिस जनपद के प्रभारी स्वयं बेसिक शिक्षा राज्य मंत्री हैं। ऐसे में सवाल यह उठता है कि क्या यह सारी समस्या प्रभारी मंत्री के जानकारी में है या फिर जिले के हाकिम सरकार की छवि धूमिल करने में आमादा हुए पड़े हैं ।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!