श्रम बंधु और वर्कर्स फ्रंट के प्रदेश अध्यक्ष ने की पत्रकार वार्ता

मनोज वर्मा (संवाददाता)

रेनुकूट। मोदी सरकार की कारपोरेट परस्त तानाशाह पूर्ण नीतियों व श्रम कानूनों में सुधार के नाम पर श्रमिकों के अधिकार खत्म करने के खिलाफ देष के समस्त ट्रेड यूनियन्स द्वारा 8 जनवरी को अखिल भारतीय हड़ताल होगी। इस हड़ताल में वर्कर्स फ्रंट और उससे जुड़ी टेड यूनियंस पूरी ताकत से शामिल होगी। यह बात आज रेनुकूट में पत्रकार वार्ता को सम्बोधित करते हुए श्रम बंधु और वर्कर्स फ्रंट के प्रदेश अध्यक्ष दिनकर कपूर ने कहीं। उन्होंने बताया कि मजदूरों के सम्मान, सुरक्षा व आजीविका पर अगामी 12 जनवरी को पिपरी में ठेका मजदूर यूनियन का जिला सम्मेलन आयोजित किया जायेगा। जिसमे जनपद के हर उद्योग के ठेका मजदूर हिस्सेदारी करेगें और अपने अधिकारों की रक्षा के लिए आंदोलन की रणनीति तय करेगें।पत्रकार वार्ता में उन्होंने बताया कि रेनुूकूट में जिस ईएसआई अस्पताल पर हजारों संविदा श्रमिक और उनके परिवारजन निर्भर है। उनकी तनख्वाह से जिसके लिए अंशदान की कटौती होती है और लाखों रूपया अंशदान के रूप में सरकार के खजाने में जमा होता है। राज्य सरकार द्वारा संचालित इस अस्पताल की हालत बेहद खराब है। 60 बेड के अस्पताल में पांच विशेषज्ञ डाक्टरों के सापेक्ष एक भी डाक्टर नहीं है। एक्सरे मशीन जंग खा रही है और फार्मासिस्ट तक नहीं है। पूरे अस्पताल में झाड़ और झाडिया लगी हुई है और पूरी बिल्डिंग जीर्ण-शीर्ण हो गयी है। अस्पताल में एम्बुलेंस तक नहीं है। जिन मरीजों को गम्भीर बीमारी की अवस्था में बनारस ईएसआई अस्पताल में भेजा जाता है वहां उनकी भर्ती तक नहीं ली जाती है। ईएसआई अस्पताल की इस दुर्दशा पर 11 दिसम्बर को कानपुर में अपर आयुक्त ईएसआई से मिलकर पत्रक दिया जायेगा। यदि तब भी स्थिति नहीं सुधरी तो ईएसआई अस्पताल की व्यवस्था सुधारने के लिए रेनुकूट में जन अभियान चलाया जायेगा जिसमें बड़े पैमाने पर हस्ताक्षर करा कर श्रम मंत्री भारत सरकार को पत्रक भेजा जायेगा।उन्होंने सरकार से मांग की ईएसआई अस्पताल को आम जनता के लिए भी खोला जाए।
पत्रकार वार्ता में सभासद नौशाद, ओ0 पी0 सिंह, जिला मंत्री ठेका मजदूर यूनियन कृपाशंकर पनिका, पूर्व सभासद पिपरी का0 मारी आदि लोग उपस्थित रहे।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!