फिल्म ‘होटल मुंबई’ की समीक्षा

बॉलीवुड फिल्म ‘होटल मुंबई’ की कहानी 2009 में आई डॉक्यूमेंट्री सर्वाइविंग मुंबई से प्रेरित है. ये कहानी है 26 नवंबर 2008 में हुए ताज होटल में हुए दर्दनाक आतंकवादी हमले की, जिसमें होटल के मेहमान, स्टाफ और मुंबई पुलिस ने अपनी जाने गंवाई थीं. इसके साथ ही इस फिल्म में 26 नवंबर के ही दिन हुई छत्रपति शिवाजी स्टेशन और लियोपोल्ड कैफे में हुए आतंकी हमले को भी कुछ हद तक दिखाया गया है.

फिल्म के डायरेक्टर एंथनी मरास ने अपने बहुत से इंटरव्यू में बताया है कि उन्होंने हमले के समय होटल में रहे असल लोगों की पहचान को छुपाने का फैसले किया था और इसलिए कहानी में दिखाए गए सभी किरदार काल्पनिक हैं, जिन्हें असल जिंदगी के लोगों से प्रेरित होकर गढ़ा गया है. हालांकि ताज होटल के हेड शेफ हेमंत ओबेरॉय यानी अनुपम खेर का किरदार असली है.

फिल्म की कहानी:
कहानी की शुरुआत होती है अर्जुन (देव पटेल) से जो मुंबई में रहता है. उसकी बीवी प्रेग्नेंट है और एक छोटी बच्ची भी उसके पास है. अर्जुन ताज होटल में काम करने वाला कर्मचारी है, जो उस दिन गलत फुटवियर में काम पर पहुंचता है. हेड शेफ ओबेरॉय उसे घर जाने को कहते हैं लेकिन वो उनसे दरख्वास्त करता है कि उसे इस शिफ्ट की जरूरत है, उसे काम करने दिया जाए.

वहीं डेविड डंकन और जाहरा (आर्मी हैमर और नाजनीन बोनैदी) अपने बेटे और उसकी नैनी सैली (टिल्डा कोहम-हार्वी) के साथ होटल पहुंचते हैं. डेविड और जाहरा होटल के शामियाने में डिनर कर रहे होते हैं जब ताज होटल पर आतंकी हमला होता है.

शानदार है डायरेक्शन:
ये फिल्म बहुत खूबसूरती से बनाई गई है. हर एक सीन डर और दहशत से भरा है, जो आपको मन ही मन दुआ करने के लिए मजबूर करता है. आतंकवादियों का बड़े आराम से मुंबई तक पहुंचना और फिर आम जनता में घुल-मिल जाना और टैक्सी लेकर अपनी-अपनी लोकेशन पर पहुंचना बहुत डरावना है. फिल्म जैसे-जैसे आगे बढ़ती है और ताज होटल में होने वाला हादसा और भी गंभीर, दर्दनाक और डरावना होने लगता है.

थिएटर में बैठे हुए एक पल ऐसा नहीं होता जब आप ठीक से सांस ले रहे हो. ये फिल्म आपको अपने साथ ऐसे जोड़ती है कि आपको लगेगा कि आप उस समय उस होटल के किसी कमरे में हो और बाहर एक 16 साल के बच्चे के रूप में मौत खड़ी है. आप किरदारों के साथ जुड़ते है और उनके हर कदम को अपना कदम समझकर सोचते हैं. उस किरदार को चोट लगना आपके शरीर की चोट बन जाता है.

डायरेक्टर एंथनी मरास की बतौर डायरेक्टर पहली फिल्म है और उन्होंने इसमें बढ़िया काम किया है. फिल्म में शायद ही कोई पल है जब आप उससे जुड़े ना रहें और डरे ना रहें. फिल्म की एडिटिं बहुत खूबसूरत है. बढ़िया सिनेमाटोग्राफी, साउंड डिजाइन और बैकग्राउंड स्कोर फिल्म को रियल बनाते हैं.

कैसी है फिल्म की परफॉर्मेंस:
फिल्म के एक्टर्स देव पटेल, अनुपम खेर, आर्मी हैमर, नाजनीन बोनैदी, टिल्डा कोहम-हार्वी और जेकब आईजैक ने बढ़िया परफॉरमेंस दी है. इनका डर, कंफ्यूजन और पैनिक देखने लायक है और इन सभी की एक्टिंग इस फिल्म को बेहतरीन बनाती है. आप इसे देखते हुए आप अपनी इमोशन्स और अपने आंसुओं को नहीं रोक पाएंगे.

कुल-मिलाकर ये एक दिल दहला देने वाली खूबसूरती से बनाई गई फिल्म है, जिसे आपको जरूर देखना चाहिए.



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!