हाथी की मौत पर हड़कम्प, पोस्टमार्टम के बाद आएगा मौत का कारण

मुकेश अग्रवाल (संवाददाता)

बीजपुर । जरहा वन रेंज के ग्रामसभा डोडहर टोला डूमर चुआ में हाथियों के झुंड में शामिल एक हाथी के बच्चे की मौत हो गयी । जिसके बाद वन विभाग में हड़कम्प मच गया ।
वैसे तो सोनभद्र में हाथी पिछले 2 महीने से उत्पात मचाया हुआ है। हाथी के उत्पात से एक व्यक्ति की भी मौत हो गयी थी । जिसके बाद वन विभाग इसलिए निश्चिंत हो गया था कि हाथी वापस छत्तीसगढ़ के जंगल में चली गई लेकिन कुछ ही दिनों में हाथियों का झुंड बीजपुर डैम के किनारे डेरा डाल दिया । हाथियों को भगाने के लिए इस बार वन विभाग ने प्रयोग के तौर पर डीजे साउंड से शेर की दहाड़ निकालकर भगाने का प्रयास किया जा रहा है लेकिन अभी तक कोई भी सफलता नहीं मिला । लेकिन इसी बीच एक हाथी के बच्चे की सूचना ने विभाग में हड़कम्प मचा दिया । रविवार को दिन भर हाथी का झुंड अपने बच्चे के इस इंतजार में डेरा डाले हुए थे कि शायद वह उठ खड़ा हो और फिर साथ झुंड में चले । लेकिन यह संभव नही हो सका । बच्चे के मोह में हाथी पूरे दिन खड़े रहा लेकिन देर रात भोजन के चक्कर में हाथियों का झुंड जैसे ही कुछ दूर गया वन विभाग की टीम भोर में मौके पर पहुंचकर हाथी के बच्चे की स्थिति को देखकर पुष्ट कर दिया कि हाथी के बच्चे की मौत हो गयी है । क्योंकि कल से ही मौत की खबर आ रही थी लेकिन पुष्ट नहीं हो पा रहा था।
इस पूरे मामले पर डीएफओ रेनुकूट ने बताया कि हाथी के बच्चे की मौत हो गयी है लेकिन किन कारणों से हुई है यह पोस्टमार्टम के बाद ही स्पष्ट हो सकेगा । डीजे बजाए जाने के सवाल पर कहा कि लोगों के सुरक्षा की दृष्टि से बजाया जा रहा था ताकि हाथी गांव की तरफ न जाय और लोगों की जिंदगी को बचाया जा सके ।
लेकिन हाथी के आने से वन विभाग की पोल भी खुल गयी कि इंतजाम के नाम पर कुछ भी नहीं है ।
फिलहाल हाथियों का झुंड अभी भी डटा हुआ है और वन विभाग मूकदर्शक बनकर जाने का इंतजार कर रहा है ।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!