महाराष्ट्र के लिए अच्छी खबर, सरकार गठन को लेकर शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी में सहमति पर विचार


बीते कई दिनों से महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर माथापच्ची में जुटीं शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी में आखिरकार सहमति बनती दिख रही है। तीनों ही पार्टियों ने गुरुवार को सरकार के लिए न्यूनतम साझा कार्यक्रम पर को लेकर मुंबई में चर्चा की। इस मीटिंग को लेकर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और विधानसभा में विपक्ष के नेता रहे विजय वडट्टीवार ने बताया कि बैठक में तीनों पार्टियों के नेताओं ने न्यूनतम साझा कार्यक्रम का मसौदा तैयार कर लिया है। खबर है कि अब इस मसौदे को सोनिया गांधी, शरद पवार और उद्धव ठाकरे के पास भेजा गया है। वडेट्टीवार ने कहा कि उनकी नेता सोनिया गांधी की मंजूरी मिलते ही राज्य में शिवसेना के नेतृत्व में एनसीपी और कांग्रेस साझा सरकार का हिस्सा होंगे।

वहीं शिवसेना के एकनाथ शिंदे ने तीनों पार्टियों की मीटिंग के बाद कहा, ‘मीटिंग में कॉमन मिनिमम प्रोग्राम पर विस्तार से चर्चा हुई। इसे लेकर एक ड्राफ्ट भी बनाया गया है। यह ड्राफ्ट तीनों पार्टियों के प्रमुखों को भेजा गया है। तीनों पार्टियों के प्रमुख ही अंतिम निर्णय लेंगे।’
उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र को स्थिर सरकार देने के लिए शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस इन तीनों पार्टियों के राज्यस्तरीय नेताओं की न्यूनतम साझा कार्यक्रम तय करने के लिए यह पहली ही बैठक थी। वडेट्टीवार ने कहा कि तीनों पार्टियों के नेता खुले दिल से बैठक में शामिल हुए और हमें मसौदा तय करने में किसा परेशानी का सामना नहीं करना पड़ा। उन्होंने कहा कि तीनों पार्टियों के नेताओं की यह भावना थी कि राज्य की जनता और किसानों के हित में जल्द से जल्द सरकार का गठन होना जरूरी है।

वडेट्टीवार ने कहा कि जब तक इस मसौदे को तीनों पार्टियों के प्रमुखों की मंजूरी नहीं मिल जाती, तब तक मसौदे में शामिल तथ्यों का खुलासा करना ठीक नहीं है। हालांकि उन्होंने यह भी बताया कि बैठक में हिंदुत्व समेत सभी मुद्दों पर चर्चा हुई। हालांकि कहा जा रहा है कि ड्राफ्ट में तीनों पार्टियों के चुनावी घोषणा पत्र में शामिल मुद्दों को लिया गया है। जिसमें किसानों की कर्जमाफी, बेरोजगारी और महंगाई से निपटने के लिए उपाय, छात्रों की समस्याओं को प्रमुखता दी गई है।

सोनिया से मिल सकते है पवार
एनसीपी सूत्रों का कहना है कि पार्टी चीफ शरद पवार 16 नवंबर को दिल्ली में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात कर सकते हैं। सूत्रों का कहना है कि 17 से 20 नवंबर के बीच महाराष्ट्र में नई सरकार के गठन का ऐलान हो सकता है।

शिवसेना के सीएम पर सहमति
तीनों दलों के इस संभावित गठजोड़ में शिवसेना का ही सीएम रहने पर सहमति बनी है। एनसीपी नेता नवाब मलिक ने कहा, मुख्यमंत्री पद के लिए ही शिवसेना बीजेपी से अलग हुई है। इसलिए उनका स्वाभिमान और सम्मान बनाए रखना हमारी जिम्मेदारी है। उन्होंने कहा कि अब तक सत्ता में पदों के बंटवारे को लेकर कोई चर्चा नहीं हुई है। हालांकि सूत्रों का कहना है कि शिवसेना को मुख्यमंत्री, एनसीपी को उपमुख्यमंत्री और अगर कांग्रेस सरकार में शामिल होती है, तो मंत्री पदों के समान बंटवारे पर सहमति बनती नजर आ रही है।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!