महाराष्ट्र का सियासी पारा चरम पर, राज्यपाल ने शिवसेना से सरकार बनाने के बारे में पूछा

महाराष्ट्र का सियासी पारा अपने चरम पर है। बीजेपी द्वारा सरकार बनाने से इनकार करने के बाद अब राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने दूसरी सबसे बड़ी पार्टी शिवसेना से सरकार बनाने के बारे में पूछा है। महाराष्ट्र के गवर्नर कार्यालय की तरफ से शिवसेना के विधायक दल के नेता एकनाथ खडसे से सरकार बनाने की इच्छा के बारे में पूछा है।

राज्यपाल ने इससे पहले बीजेपी से भी सरकार बनाने के बारे में पूछा था। इसके बाद बीजेपी ने कोर ग्रुप की बैठक के बाद सरकार नहीं बनाने का फैसला लिया और राज्यपाल को इस बारे में सूचना दे दी।
पढ़ें, महाराष्ट्र में BJP बोली-नहीं बनाएंगे सरकार
सूत्रों का कहना है कि शिवसेना एनसीपी के समर्थन से सरकार बना सकती है, वहीं कांग्रेस पार्टी इसे बाहर से समर्थन कर सकती है। एनसीपी नेता नवाब मलिक ने कहा कि यदि राज्यपाल शिवसेना को सरकार बनाने के लिए न्योता देते हैं तो हम अपने अगले कदम के बारे में सोचेंगे। उन्होंने कहा, ‘अभी तक शिवसेना की तरफ से हमें कोई प्रस्ताव नहीं मिला है। जैसा कि पवार साहिब ने कहा था, अंतिम फैसला कांग्रेस और एनसीपी मिलकर लेंगे।’

मलिक ने कहा कि हमले 12 नवंबर को अपने विधायकों की बैठक बुलाई है। उन्होंने कहा, ‘यदि शिवसेना हमारा समर्थन चाहती है तो उन्हें ऐलान करना होगा कि उनका अब बीजेपी से कोई संबंध नहीं है और उन्हें एनडीए से बाहर आने का भी ऐलान करना होगा। साथ ही केंद्र में शिवसेना के सभी मंत्रियों को भी इस्तीफा देना होगा।’

बता दें कि इससे पहले बीजेपी राज्यपाल से मिलकर सरकार बनाने से इनकार कर चुकी है। राज्यपाल से मीटिंग के बाद बीजेपी नेता चंद्रकांत पाटिल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा, ‘हाल के विधानसभा चुनाव में बीजेपी और शिवसेना ने मिलकर चुनाव लड़ा था। जिसे राज्य की जनता ने बहुत अच्छा जनादेश दिया। यह जनादेश सरकार बनाने के लिए काफी था। कल राज्यपाल ने सबसे बड़ी पार्टी होने के नाते हमें सरकार बनाने का न्योता दिया। लेकिन जनादेश का अनादर करते हुए सेना ने सरकार नहीं बनाने की इच्छा जाहिर की। हम भी अकेले सरकार बनाने की स्थिति में नहीं हैं। हमने राज्यपाल को यह सूचित कर दिया है। शिवसेना चाहे तो एनसीपी और कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार बना सकती है। उन्हें हमारी शुभकामनाएं।’

वहीं शिवसेना नेता ने भी पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे से लंबी मीटिंग की। मीटिंग के बाद पार्टी प्रवक्ता संजय राउत ने कहा, ‘वो कहते थे सीएम हमारा होगा। हमने इसका स्वागत किया था। लेकिन मैं एक बात साफ कर देना चाहता हूं कि आज दोपहर शिवसेना चीफ उद्धव ठाकरे ने साफ कहा था कि आने वाले दिनों में सीएम शिवसेना का होगा। इसका मतलब साफ है कि हम किसी भी कीमत पर राज्य को शिवसेना का सीएम देंगे।’



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!