कच्ची शराब की बिक्री के विरोध में महिलाओं ने उठाई आवाज

सुरेश श्रीवास्तव (संवाददाता)

खुटार (शाहजहांपुर) । थाना क्षेत्र के लगभग एक दर्जन गांव में कच्ची शराब का निर्माण व उसकी बिक्री निरंतर जारी है । यदा-कदा कच्ची शराब पर अंकुश के नाम पर जिम्मेदार अधिकारी छापामार कार्रवाई कर मामले को रफा दफा कर देते हैं । लेकिन आज तक इस पर पुलिस व आबकारी विभाग पूर्ण रूप से अंकुश नहीं लगा सका । नतीजा यह रहा कि कच्ची शराब का धंधा यहां पर लघु उद्योग के रूप में पनप रहा है । जिससे नव युवकों की जिंदगी नरक बनती जा रही है। इसी कच्ची शराब को लेकर आज महमदपुर सजनिया की महिलाओं ने थाने आकर प्रदर्शन करते हुए कच्ची शराब की बिक्री को लेकर शिकायती पत्र थाने में देकर कार्रवाई की मांग की है।

क्षेत्र महमदपुर सैजनिया गांव निवासी रामनयन की पत्नी पुष्पा देवी के नेतृत्व में थाने पहुंची सीतादेवी, तारावती, सरिता देवी, नैना देवी, सविता देवी, कलावती, शीला देवी, सुशीला देवी, मनोरमा, दुर्वासा आदि ने पुलिस को दिए गए शिकायती पत्र में बताया कि गांव में रहने वाले कुछ लोग खुलेआम कच्ची शराब बनाने और बेचने का काम करते हैं। जिस वजह से गांव में रहने वाले ज्यादातर लोग शराब पीने के आदी हो चुके हैं। सबसे ज्यादा गांव के युवा वर्ग के लड़के शराब का सेवन करने लगे हैं। इस वजह से गांव में लड़ाई झगड़े आदि भी रोजाना होते रहते हैं। पीड़ित महिलाओं ने बताया कि कच्ची शराब पीने की वजह से उनके गांव में रहने वाले कई अन्य लोगों के परिवार पूरी तरह से बर्बाद हो चुके हैं। पीड़ित महिलाओं ने शिकायती पत्र में बताया कि शराब न मिलने पर शराब के आदी हो चुके लोग घर की महिलाओं बच्चों के साथ मारपीट करते हैं और उनके जेवर, बर्तन आदि चोरी कर बेच देते हैं। जिससे कई परिवार बर्बादी का दंश झेल रहे हैं। उन्होंने बताया कि कई बार उन लोगों ने शराब को बंद कराने की कोशिश की। लेकिन शराब माफिया शराब बेचने बनाने का धंधा बंद करने का नाम नहीं ले रहे हैं। कई बार इसकी शिकायत पुलिस से की गई। लेकिन स्थानीय पुलिस और आबकारी विभाग के लोगों की संलिप्तता की वजह से कच्ची शराब का कारोबार बंद होने का नाम नहीं ले रहा है। पीड़ित महिलाओं ने पुलिस अधिकारियों से कच्ची शराब बंद कराए जाने की मांग की।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!