जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक ने घोरावल में सुनी जन समस्या

शासन की मंशा के अनुरूप जिले की तीनों तहसीलों में ‘‘ सम्पूर्ण तहसील समाधान दिवस ‘‘ का आयोजन नवम्बर महीने के पहले मंगलवार को किया गया। पहले मंगलवार के सम्पूर्ण तहसील समाधान दिवस की खासियत यह रही कि सभी अधिकारी अपना-अपना नेम प्लेट लगाकर जनता की समस्याओं को सुनते हुए मामले को निस्तारित करने के लिए तत्पर रहें और तहसील परिसर में ही अपनी-अपनी विभागीय योजनाओं का स्टाल लगाकर नागरिकों को जानकारी दे रहे थे।

मुख्य सम्पूर्ण तहसील समाधान दिवस घोरावल में जिलाधिकारी एस0 राजलिंगम व पुलिस अधीक्षक आशीष श्रीवास्तव ने मौजूद सभी अधिकारियों का दायित्वबोध कराते हुए कहा कि तहसील दिवस में अब सम्बन्धित विभाग के अधिकारी अपने-अपने विभागों के समस्याओं को सुनेंगे और जो प्रकरण मौके पर निस्तारित नहीं होंगे, उनका प्रकरण सम्पूर्ण तहसील समाधान दिवस के मौके पर विभागीय कार्मिकों की टीम द्वारा किया जायेगा और जो मामले एक या दो दिन के अन्दर निस्तारित नहीं होंगे, उनका निस्तारण उच्च स्तरीय अधिकारी द्वारा मौके पर जाकर निस्तारित किया जायेगा।
जिलाधिकारी ने जनता के सस्याताओं से रूबरू होते हुए पाया कि पंचायत राज विभाग में तमाम कोषिषों के बाद भ्रष्टाचार व्याप्त है। लाभार्थियों द्वारा अपना शौचालय बनाये जाने के बावजूद सहायक विकास अधिकारी पंचायत व सेक्रेटरी द्वारा पात्रों के खाते में धनराशि नहीं भेजी जा रही है। जिलाधिकारी ने बताया कि मुगेहरी व मिझुन गांव के लाभार्थियों को पैसा पंचायत राज विभाग के सहायक विकास अधिकारी पंचायत व सेक्रेटरी द्वारा नहीं दिया जा रहा है। जिस पर जिलाधिकारी ने मुगेहरी गांव के सेक्रेटरी के खिलाफ चार्जशीट तैयार करके कार्यवाही करने व मिझुन गांव से जुड़े सहायक विकास अधिकारी पंचायत के खिलाफ कार्यवाही हेतु शासन स्तर पर पत्र लिखे जाने के निर्देष दियें। जिलाधिकारी ने दायित्वबोध कराते हुए कहा कि तमाम कोषिषों के बावजूद स्वच्छ शौचालय ग्रामीण के लाभार्थियों को पंचायत राज विभाग द्वारा समय से पैसा उपलब्ध न कराना, इनके कार्यों व नियत को प्रदर्षित करती है। उन्होंने कहा कि बार-बार कहने व समझाने के बावजूद खातों में पात्रों का पैसा न भेजने जैसे स्वेच्छाचारिता के मद्देनजर शासन स्तर पर पत्राचार जिलाधिकारी के स्तर से किया जायेगा।
जिलाधिकारी ने कहा कि गुणवत्ता पूर्ण ही निस्तारण माना जायेगा, लिहाजा कोरम अदायगी के बजाय गुणवत्तापूर्ण निस्तारण किया जाय। तहसील सम्पूर्ण तहसील समाधान दिवस में जिलाधिकारी श्री एस0 राजलिंगम, पुलिस अधीक्षक आषीश श्रीवास्तव, उप जिलाधिकारी घोरावल प्रकाष चन्द्र, पुलिस क्षेत्राधिकारी राम आशीष यादव, तहसीलदार घोरावल सुरेश चन्द्र, मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ0 बी0के0 अग्रवाल, जिला विकास अधिकारी रामबाबू त्रिपाठी, डीसी मनरेगा टी0बी0 सिंह, पीडी आर0एस0 मौर्या आदि ने 208 शिकायतें सुनते हुए, मौके पर ही 6 मामलें निस्तारित किया और मौके पर जाकर निस्तारित करने के लिए 3 टीमों को भेजा जो 3 प्रकरणों को निस्तारित किये। इस प्रकार तहसील दिवस घोरावल में कुल 9 मामले निस्तारित हुए, बाकी 199 प्रकरणों को समयबद्ध तरीके से निस्तारित करने की कार्यवाही अमल में लायी जा रही है।

अपर जिलाधिकारी योगेन्द्र बहादुर सिंह, अपर पुलिस अधीक्षक ओ0पी0 सिंह, उप जिलाधिकारी सदर यमुनाधर चौहान ने सम्पूर्ण तहसील समाधान दिवस राबर्ट्सगंज में पुराने लम्बित प्रकरणों के निस्तारण की गुणवत्ता के बनाये रखने की ताकीद करते हुए मौजूद कार्मिकां को लम्बित मामलों को निस्तारित करने की ताकीद की। उन्होंने मौके पर 168 मामलों को सुनते हुए मौके पर 6 मामलों को निस्तारित किये। इसके बाद अपर जिलाधिकारी ने 5 टीमें बनाकर क्षेत्र में जाकर जमीनी हकीकत के मुताबिक निस्तारण के लिए अधिकारियों व कर्मचारियों के टीमों को भेजा। अपर जिलाधिकरी श्री योगेन्द्र बहादुर सिंह व उप जिलाधिकारी सदर द्वारा भेजी गयी टीमों द्वारा 5 मामलों का निस्तारण मौके पर जाकर किया गया, इस प्रकार सम्पूर्ण तहसील समाधान दिवस के दिन राबर्ट्सगंज तहसील प्रषासन द्वारा कुल 11 मामले निस्तारित किये गये। बाकी बचे 157 मामलों को औपचारिकताओं को पूरा करते हुए समयबद्ध तरीके से निस्तारित करने के निर्देष दिये गये। इस मौके पर अपर जिलाधिकारी योगेन्द्र बहादुर सिंह, अपर पुलिस अधीक्षक ओ0पी0 सिंह, व उप जिलाधिकारी सदर यमुनाधर चौहान के अलावा तहसीलदार विकास पाण्डेय सहित तहसील स्तरीय अधिकारीगण मौजूद रहें।

उप जिलाधिकारी दुद्धी सुशील कुमार यादव की अध्यक्षता में सम्पूर्ण तहसील समाधान दिवस दुद्धी में तहसील दिवस सम्पन्न हुआ। इस मौके पर उप जिलाधिकारी श्री यादव ने पुराने लम्बित प्रकरणों के निस्तारण की गुणवत्ता के बनाये रखने की ताकीद करते हुए मौजूद कार्मिको को लम्बित मामलों को निस्तारित करने की ताकीद की। उप जिलाधिकारी श्री यादव ने मौके पर मौजूद तहसील स्तरीय अधिकारियों का दायित्वबोध कराते हुए सम्बन्धित समस्याओं को मौके पर निस्तारित करने के निर्देष दिये। उन्होंने मौके पर 75 मामलों को सुनते हुए मौके पर 3 मामलों को निस्तारित किये। इसके बाद उप जिलाधिकारी श्री यादव ने 6 टीम बनाकर क्षेत्र में जाकर जमीनी हकीकत के मुताबिक निस्तारण के लिए अधिकारियों व कर्मचारियों के टीमों को भेजा। भेजी गयी टीमों द्वारा 6 मामला का निस्तारण मौके पर जाकर किया गया, इस प्रकार सम्पूर्ण तहसील दिवस के दिन दुद्धी तहसील प्रषासन द्वारा कुल 9 मामले निस्तारित किये गये। बाकी बचे 66 मामलों को औपचारिकताओं को पूरा करते हुए समयबद्ध तरीके से निस्तारित करने के निर्देश दिये गये।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!