जनहित के मुद्दे को लेकर राष्ट्रीय मजदूर कांग्रेस इंटक ग्रामीण ने की बैठक

कृपा शंकर पांडेय (संवाददाता)

ओबरा । चोपन ब्लाक के रेणुका नदी पार लाखों आदिवासियों के विकास के लिए ओबरा डैम की सुरक्षा एवं ओबरा ‘सी’ परियोजना एस पाइप लाइन को ले जाने हेतु चकारी गांव में प्रस्तावित पुल के निर्माण में हो रहे विलंब स्थानीय कल कारखानों में स्थानीय लोगों को रोजगार से उपेक्षित किया जाना ग्राम पंचायत बेल्छ के आदिवासी मजदूरों को अन्न से आत्मनिर्भर एवं रोजगार हेतु केरवा बांध में हो रही कार्यवाही में विलंब रेणुका पार के आदिवासियों के बच्चों को पढ़ने हेतु 3 करोड 2 लाख रुपए की लागत से विगत 3 वर्षों से बनकर तैयार पंडित दीनदयाल उपाध्याय राजकीय मॉडल इंटरमीडिएट कॉलेज मेडरदह ब्लॉक में म्योरपुर मे संगठन के बार-बार प्रयास करने के बावजूद अभी तक पठन-पाठन का कार्य प्रारंभ न किए जाने तथा शिक्षा के क्षेत्र में अति पिछड़े क्षेत्र में संगठन द्वारा प्रस्तावित विद्यालयों जैसे पनारी जुगैल ,वेल्हथी इंटरमीडिएट कॉलेज तथा बाडी परसोई कनहरा में हाई स्कूल खोले जाने विगत 3 वर्षों से सड़कों के क्षतिग्रस्त होने के कारण ओबरा डैम पार आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र पनारी परसोंई, बैरपुर, बेल्हथी आदि क्षेत्रों में एंबुलेंस सेवा का न हो पाना ओबरा डाला क्षेत्र के कारखानों में काम करने वाले श्रमिकों को संपूर्ण कार्यवाही विगत 8 वर्ष पूर्व होने के बावजूद ई0एस0आई0 चिकित्सालय अभी तक न खोले जाने के कारण रेणुका पार के 70 किलोमीटर की परिधि में लाखों आदिवासीयो के चिकित्सा हेतु संगठन द्वारा प्रस्तावित परसोंई ग्राम पंचायत मे 100 बेड का चिकित्सालय खोले जाने हेतु जिला प्रशासन से सहमति होने के बावजूद अभी तक कोई कार्यवाही न किया जाना आदि विषयों पर सोनभद्र के सभी ब्लॉकों के आदिवासी मजदूर प्रतिनिधियों की बैठक रविवार को हाइड्रो इलेक्ट्रिक एंप्लाइज यूनियन शाखा कार्यालय ओबरा पर राष्ट्रीय मजदूर कांग्रेस इंटक ग्रामीण की बैठक जिला अध्यक्ष हरदेव नारायण तिवारी की अध्यक्षता में बैठक संपन्न हुई । बैठक को संबोधित करते हुए इंटक के जिलाध्यक्ष हरदेव नारायण तिवारी ने कहा कि उपरोक्त सभी बिंदुओं पर जिला प्रशासन, शासन, सरकार से पत्रों के माध्यम से एवं वार्ता के माध्यम से सहमति के बावजूद भी अभी तक कार्यवाही आगे न बढ़ने के कारण आदिवासी बहुल्य क्षेत्र के मजदूरों एवं किसानों में भारी आक्रोश बढ़ रहा है बहुत दुर्भाग्य पूर्ण बात है कि आजादी के 73 वर्ष बाद भी ऐसे गरीब क्षेत्र के लोगों के प्रति शासन और सरकार का ध्यान बार-बार आकृष्ट कराने के बावजूद भी नहीं दिया जा रहा है ।

जिसके कारण यह आदिवासी क्षेत्र शिक्षा चिकित्सालय आवागमन रोजगार आदि बुनियादी समस्याओं से वंचित है इस उपेक्षातम्क रवैया से उपस्थित सभी प्रतिनिधियों ने निंदा किया तथा कहा कि ऐसी बुनियादी समस्याओं पर माननीय मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश सरकार जिनका आगमन सोनभद्र के दक्षिणांचल के आदिवासी क्षेत्र में स्थित अनपरा तापीय परियोजना में 11 नवंबर 2019 को आगमन हो रहा है इन बुनियादी समस्याओं के समाधान हेतु अपील करते हुए कहा है कि भारत की अति पिछड़े जिले के नाम से जानने वाला कलंक का टीका को समाप्त किया जा सके उपस्थित प्रतिनिधियों ने निर्णय लिया कि यदि नवंबर 2019 तक कार्यवाही आगे नहीं बढ़ी तो बड़े आंदोलन का एलान कर दिया जाएगा बैठक का संचालन जिला महासचिव समीम अख्तर खान तथा संबोधन श्री बृजेश तिवारी, हरिशंकर गोंड, निगम मिश्रा, प्रभात पांडेय, सतीश कुमार, रमाशंकर गोंड, शिवप्रसाद खरवार, लालजी साहनी, सेतु राम केसरी, आशा शर्मा, स्वतंत्र साहनी, शीतला प्रसाद मिश्रा, जगवन्ती देवी, रामविलास दुबे, शिव शंकर यादव, पिंटू पठारी ,मंजू देवी, कृष्णावती देवी, अकमानी देवी, दूधनाथ खरवार, सुमित्रा देवी, कृष्णानंद दुबे, भागीरथी ,गुलाब गौड, सूबेदार गोंड, संजय पासवान, लालता प्रसाद चौहान, मुन्ना भारती आदि लोगों ने संबोधित किया ।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!