कमलेश तिवारी का परिवार मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से की मुलाकात, हत्यारों के लिए मौत की सजा की मांग

हिन्दू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी की मां, पत्नी और बेटे ने रविवार को लखनऊ में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की । सीएम योगी आदित्यनाथ के साथ मुलाकात में कमलेश तिवारी की पत्नी किरण तिवारी ने अपने पति के हत्यारों के लिए मौत की सजा की मांग की है ।

बता दें कि उत्तर प्रदेश प्रशासन ने शनिवार को कमलेश तिवारी के परिवार को सरकारी नौकरी, सरकारी आवास और सुरक्षा के लिए लाइसेंसी हथियार देने का वादा किया था ।

बतादें कि लखनऊ में 18 अक्टूबर को दोपहर 12 से 12.30 बजे के बीच हमलावरों ने कमलेश की हत्या कर दी थी। दोपहर में दो लोग उनसे मिलने पार्टी ऑफिस आए थे। पहले उन्होंने कमलेश का गला रेता, फिर मिठाई के डिब्बे से पिस्तौल निकालकर गोलियां मारीं। कमलेश हिंदू महासभा के भी नेता रहे थे।

पुलिस ने कमलेश की हत्या के मामले में शनिवार को सूरत से तीन और बिजनौर से दो आरोपियों को गिरफ्तार किया। हालांकि, वारदात को अंजाम देने वाले आरोपी फरीद और अशफाक फरार हैं। जांच में सामने आया है कि घटना की साजिश दुबई में रची गई। हत्या को अंजाम देने के लिए सूरत में गैंग बनाई गई। इसके बाद लखनऊ जाकर हत्या की गई ।

पुलिस के मुताबिक, फरीद और अशफाक असली पहचान पत्र के जरिए 17 अक्टूबर से खालसा होटल में ठहरे थे। उन्होंने रात करीब 11 बजे एक कमरा लिया था। वे अगले दिन सुबह करीब साढ़े दस बजे निकल गए। फिर दोपहर 1.20 बजे होटल लौटे और 1.37 बजे फिर चले गए। होटल की अलमारी से बैग, लोअर और लाल-भगवा कुर्ते मिले। सभी कपड़े और तौलिया पर खून के निशान मिले हैं। नए मोबाइल और चश्मे के डिब्बे, सेविंग किट आदि सामान मिले हैं।

अब तक की जांच में किसी आतंकी संगठन की भूमिका सामने नहीं आई है। कमलेश ने 2015 में पैगंबर मोहम्मद साहब को लेकर विवादित टिप्पणी की थी, जो उनकी हत्या का कारण बनी। हमले की जिम्मेदारी अल-हिंद ब्रिगेड संगठन ने ली। जिसने कमलेश के बयान को इस्लाम और मुसलमानों को बदनाम करने वाला बताया था।

योगी सरकार ने कमलेश के परिवार को पूरी सुरक्षा मुहैया कराने की बात कही है। योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को कहा था कि प्रदेश में इस तरह की घटनाएं बर्दाश्त नहीं की जाएंगी, दोषियों को छोड़ा नहीं जाएगा। भय और आतंक का माहौल तैयार करने वाले तत्वों से सख्ती से निपटा जाएगा। सरकार उनके मंसूबों को ध्वस्त करेगी।

वहीं, कमलेश के बेटे सत्यम ने कहा कि हम एनआईए से जांच कराना चाहते हैं। पिता के साथ सुरक्षा गार्ड थे, फिर भी वारदात हो गई। ऐसे में स्थानीय प्रशासन पर कैसे भरोसा करें। कमलेश की मां ने दावा किया है कि गांव में मंदिर को लेकर विवाद में स्थानीय भाजपा नेता ने बेटे की हत्या कराई।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!