Wednesday, October 23, 2019 - 01:25 PM
फ़्लैशराष्ट्रीय न्यूज़विदेश

राफेल लड़ाकू विमान मिलने के बाद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने किया शस्त्र पूजन, भरी उड़ान

14

फ्रांसीसी कंपनी दसॉल्ट एविएशन से भारत को पहला राफेल लड़ाकू विमान मिलने के बाद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ‘शस्त्र पूजन किया । इसके बाद उन्होंने इस लड़ाकू विमान से उड़ान भी भरी। बता दें कि 19 सितंबर को राजनाथ सिंह ने स्वदेशी तेजस विमान से भी उड़ान भरी थी। इससे पहले राफेल के हैंडओवर समारोह में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि यह एक ‘ऐतिहासिक दिन है । यह भारत और फ्रांस के बीच गहरा संबंध दिखाता है । उन्होंने कहा कि राफेल विमान के शामिल होने से एयरफोर्स की क्षमता में इजाफा होगा ।

राफेल लेने पहुंचे रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि आज मुझे खुशी हो रही है कि राफेल एयरक्राफ्ट अपने समय से भारत आ रहा है, मुझे विश्वास है कि इससे हमारी वायुसेना की ताकत बढ़ेगी । मुझे आशा है कि दोनों प्रमुख लोकतंत्रों के बीच सभी क्षेत्रों में सहयोग बढ़ेगा । राजनाथ सिंह ने कहा आज भारत-फ्रांस की रणनीतिक साझेदारी में एक नया मील का पत्थर लग रहा है ।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, भारत में आज दशहरा का त्योहार है जिसे विजयादशमी के नाम से भी जाना जाता है जहां हम बुराई पर जीत का जश्न मनाते हैं । यह 87वां वायु सेना दिवस भी है, इसलिए यह दिन कई मायनों में प्रतीकात्मक बन जाता है ।इससे पहले रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह मेरीग्नैक पहुंचने के बाद दसॉ एविएशन की फैक्ट्री में पहुंचे ।

2016 में हुआ था ये सौदा

भारत ने करीब 59 हजार करोड़ रुपये मूल्य पर 36 राफेल लड़ाकू जेट विमान खरीदने के लिए सितंबर, 2016 में फ्रांस के साथ अंतर-सरकारी समझौता किया था । बता दें कि 36 राफेल जेट विमानों में पहला विमान भारत को मंगलवार को ही मिल गया ।लेकिन चार विमानों की इस पहली खेप को भारत पहुंचने में अगले साल मई तक इंतजार करना पड़ेगा । सभी 36 राफेल जेट विमान सितंबर, 2022 तक भारत पहुंचने की उम्मीद है ।

पिछले माह रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भारत में बने लड़ाकू विमान तेजस में उड़ान भरी थी। वे इस उड़ान के साथ इस विमान में उड़ान भरने वाले पहले रक्षा मंत्री बने थे । तेजस विमान को तीन साल पहले ही वायुसेना में शामिल किया गया है ।अब तेजस का अपग्रेड वर्जन भी आने वाला है । तेजस हल्का लड़ाकू विमान है, जिसे एचएएल ने तैयार किया है. 83 तेजस विमानों के लिए एचएएल को 45 हजार करोड़ रुपये का ठेका मिला है । भारत के स्वदेशी और हल्के लड़ाकू विमान तेजस में वे सारी खूबियां हैं जो दुश्मन को हराने की पूरी ताकत रखती हैं । चूंकि ये एक हल्का फाइटर प्लेन है इसलिए इससे दुश्मन पर वार करना भी आसान हो जाता है । यह चीन और पाकिस्तान के लड़ाकू विमानों को कड़ी टक्कर दे रहा है।

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...