नवमी को विंध्याचल में भक्तों की उमड़ी भीड़, भक्तो ने माँ सिद्धिदात्री के दर्शन किये

जनपद न्यूज ब्यूरो

नवरात्र के आखिरी और नवमी के दिन माँ विंध्यवासिनी के धाम में आज भक्तो को माँ सिद्धिदात्री के दर्शन मिले । मां का एक झलक पाने के लिए भक्त लाइन मे दिखे वहीँ मंगला आरती के बाद श्रद्धालु दर्शन को उमड़ पड़े। आधी रात के बाद से ही श्रद्धलुओ का तांता लगना शुरू हो गया था और माँ की एक झलक पाकर सब निहाल हो गए। । माँ विंध्यवासिनी का यह स्वरूप सभी स्द्धियों को प्रदान करने वाला है। नवरात्रि का नवां दिन मां सिद्धिदात्री का है जिनकी आराधना से व्यक्ति को सभी प्रकार की सिद्धियां प्राप्त होती है उसे बडे कर्मों से लड़ऩे की शक्ति मिलती है।

मां सिद्धिदात्री की आराधना से व्यक्ति की सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं। कमल के आसान पर विराजमान मां सिद्धिदात्री के हाथों में कमल, शंख गदा, सुदर्शन चक्र है जो हमें बुरा आचरण छोड़ सदकर्म का मार्ग दिखाता है। आज के दिन मां की आराधना करने से भक्तों को यश, बल व धन की प्राप्ति होती है। मां सिद्धिदात्री का नौंवा स्वरूप हमारे शुभ तत्वों की वृद्धि करते हुए हमें दिव्यता का आभास कराता है।

मां की स्तुति हमारी अंतरात्मा को दिव्य पवित्रता से परिपूर्ण करती है हमें सत्कर्म करने की प्रेरणा देती है। मां की शक्ति से हमारे भीतर ऐसी शक्ति का संचार होता है जिससे हम तृष्णा व वासनाओं को नियंत्रित करके में सफल रहते हैं तथा जीवन में संतुष्टि की अनुभूति कराते हैं। मां का दैदीप्यमान स्वरूप
हमारी सुषुप्त मानसिक शक्तियों को जागृत करते हुए हमें नियंत्रिण करने की शक्ति व सामथ्र्य प्रदान करता है।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!