चोपन की रामलीला में ताड़का वध का हुआ मंचन

घनश्याम पाण्डेय/विनीत शर्मा(संवाददाता)

चोपन। नवरात्र पूजन की धूम के साथ ही नगर में रामलीला महोत्सवों की भी धूम शुरू हो गई। लगातार मौसम की बेरुखी और इंद्र देव की अति कृपा से तीन दिन रामलीला का मंचन नही हो पाया ।लेकिन जैसे ही आसमान साफ दिखने लगा रेलवे रामलीला समिति द्वारा निर्णय लिया गया कि आज मंचन होगा।इससे नगर एव लीला प्रेमियों में खुशी की लहर चल पड़ी ।रेलवे रामलीला द्वारा कराये जा रहे रामलीला में सोमवार को मुनि आगमन से लेकर ताड़का वध तक की लीला का सजीव मंचन किया गया।
चौथे पन में चार पुत्रों का सुख पाकर राजा दशरथ की खुशी का ठिकाना नहीं था। इसी बीच मुनि विश्वामित्र राजा दशरथ के पास पहुंचे और असुरों द्वारा यज्ञ में

विघ्न डालने की बात बता रक्षा के लिए उनसे दो पुत्रों श्रीराम और लक्ष्मण को मांगा। राजा दशरथ ने न चाहते हुए मुनि को दोनों पुत्र सौंप दिए। मुनि के यज्ञ की रक्षा कर रहे श्रीराम ने एक शिला को देख मुनि से रहस्य पूछा। इसी बीच व्यास पीठ ने चौपाई सुनाई छुअति सिला भई नारि सुहावनि, बस फिर क्या था श्रीराम ने उस पर अपना चरण रखा और पत्थर नारी रूप में परिवर्तित हो गया। अहिल्या उद्धार के बाद मुनि के यज्ञ में विघ्न डालने आयी ताड़का को भी श्रीराम ने मार डाला। लीला का सजीव मंचन देख दर्शकों में उल्लास रहा।

इस मौके पर मुख्य रूप से समाजसेवी शब्बीर खान, प्रदीप अग्रवाल, सुनील सिंह, राजेश गोस्वामी, संजय चेतन, सतनाम सिंह, सत्यप्रकाश तिवारी, उमेश सिंह टी टी, विनोद बाबू सीआईटी, संजय इंचार्ज, संजय जैन, मनोज सिंह सोलंकी, बलराम सिंह, विजय अग्रहरी, सेतराम केशरी,शुशील पाण्डेय, शितलेश मिश्रा आदि लोग मौजूद रहे।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!