सोनभद्र में शूटर के इश्तेमाल की चल पड़ी परंपरा, पहले चोपन फिर रेनुकूट चेयरमैन की हत्या

मनोज वर्मा के साथ आनंद चौबे (संवाददाता)

– एक साल के भीतर दूसरी बड़ी घटना

– दोनों निर्दल से थे सीटिंग चेयरमैन

– चोपन चेयरमैन हत्याकांड में अभी तक नहीं हो सकी सभी गिरफ्तारी

– लोगों ने कहा, आखिर किसकी लगी नजर

दो निर्दल सिटिंग चेयरमैन के हत्या के बाद सोनभद्र में कानून व्यवस्था पर सवाल खड़ा हो गया है । खासबात यह है कि दोनों चेयरमैन की हत्या में शूटर का इश्तेमाल किया गया है । जिस तरह से लगभग रात 10 बजे रेनुकूट जैसे नगर में सिटिंग चेयरमैन शिव प्रताप सिंह उर्फ बबलू सिंह को गोली मार कर शूटर आराम से निकल गए, किसी को भनक तक नहीं लगी। जगह- जगह पिकेट व डायल 100 पुलिस होने के वावजूद शूटर अपने काम को अंजाम देकर निकल लिए ।

घटना के बाद घायल चेयरमैन को तत्काल रेनुकूट के हिंडाल्को अस्पताल में भर्ती कराया गया लेकिन कंधे और सीने में लगी गोली की गम्भीरता को देखते हुए डॉक्टरों ने तत्काल वाराणसी के लिए रेफर कर दिया । तब तक नगर में भारी संख्या में स्थानीय लोग अस्पताल पहुंच चुके थे । जो भी घटना के बारे में सुना अवाक रह गया और भागकर अस्पताल पहुंचा । हर लोग चेयरमैन को एक झलक देखने के लिए परेशान दिखे । किसी प्रकार घायल चेयरमैन को एम्बुलेंस में लादा गया और वाराणसी के लिए निकल लिए ।

एम्बुलेंस के अलावा उनके कई समर्थकों की गाड़ी भी वाराणसी के लिए निकल लिए । नगर में गरीबों आवाज बनने वाले शिव प्रसाद सिंह उर्फ बबलू सिंह के लिए लोगों की दुआएं रात से ही जारी रही । लोग पूरी रात सड़क पर ही उनकी स्थिति जानने के लिए डटे रहे ।

वाराणसी जाते समय लोगों को घायल चेयरमैन की स्थिति नाजुक समझ में आ रही थी इसलिए जिला अस्पताल में रुककर डॉक्टर से पुनः प्राथमिक इलाज व राय लिया गया औऱ फिर वे वाराणसी के लिए निकल लिए । रात डॉक्टर ने बताया था कि स्थिति काफी गंभीर है और तत्काल वेंटिलेटर की जरूरत पड़ेगी ।

जिसके बाद उनका देर रात लगभग 2 बजे वाराणसी में इलाज के दौरान मृत्यु हो गई । जैसे ही चेयरमैन बबलू सिंह के मौत की खबर नगर में पहुंची, नगर में कोहराम मच गया । परिजन समेत स्थानीय लोग सड़क पर उतर आए और वाराणसी-शक्तिनगर मार्ग को जाम कर दिया । उस दौरान लोगों ने प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और हत्यारे की गिरफ्तारी की मांग करने लगे । मौके की नजाकत को देखते हुए घटना के बाद रात से ही डीएम एसपी समेत अन्य अधिकारी घटना स्थल पर डटे रहे । स्थिति को काबू में करने के लिए नगर में भारी संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है ।

एएसपी ने कहा कि परिजनों को कानून व्यवस्था पर भरोसा रखना चाहिए । उन्होंने कहा कि जल्द ही हत्यारों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा ।

एक साल में यह दूसरी सीटिंग चेयरमैन की हत्या

पिछले साल 25 अक्टूबर को चोपन चेयरमैन इम्तियाज अहमद की भी दिनदहाड़े चोपन नगर में शूटरों ने हत्या कर दी थी । चोपन चेयरमैन के हत्या मामले में पुलिस अभी तक सभी की गिरफ्तारी कर भी नहीं पाई थी कि सोमवार की रात रेनुकूट नगर में रेनुकूट नगर के सीटिंग चेयरमैन की हत्या कर दी गयी।
सबसे बड़ी बात यह है कि दोनों ही हत्या में शूटर का इश्तेमाल किया गया है । यानी हत्या के पीछे साजिश रचने वाला यह चाहता था कि किसी भी प्रकार बचने न पाए । तभी इस तरह से शूटर को लगाया गया ।
चोपन चेयरमैन के हत्या में जिस तरह से झारखंड का प्रतिबंधित उग्रवादी संगठन के सदस्य को सुपाड़ी दी गयी यह न सिर्फ इस जनपद के लिए बल्कि शासन के लिए भी चिंता का विषय होना चाहिए था लेकिन स्थानीय पुलिस की सिफारिश के वावजूद जांच सीबीसीआईडी को दे दी गयी । वावजूद स्व0 इम्तियाज के परिजन लगातार उच्च स्तरीय जांच की मांग करते रहे और आखिरकार सरकार ने एटीएस से भी जांच कराने को राजी हो गयी। रेनुकूट चेयरमैन शिव प्रसाद सिंह के मामले में परिजन कई लोगों का खुलकर नाम ले रहे है लेकिन अब देखने वाली बात होगी कि पुलिस इस हत्या कांड में किस निष्कर्ष पर पहुंचती है ।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!