मृतक बेटी को इंसाफ दिलाने के लिए एक बाप दर-दर भटकने को मजबूर

29 सितंबर 2019

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

– शनिवार को जिलाधिकारी से मिलकर लगा चुका है नयाय की गुहार

सोनभद्र । सूबे की योगी सरकार महिला सुरक्षा और बेहतर कानून व्यवस्था के लाख दावे क्यों न कर रही हो लेकिन यथार्थ कुछ और ही है। ताजा प्रकरण पन्नूगंज थाना क्षेत्र का है । जहाँ एक पिता दहेज की बलि चढ़ी अपनी बेटी को इंसाफ दिलाने के किए दर-दर की ठोकरें खाने पर विवश है । पीड़िता के पिता का आरोप है कि घटना के 28 दिन बाद भी सभी आरोपी पुलिस की गिरफ्त से बाहर हैं। आरोपियों की न होने के कारण परिजनों में पुलिस के प्रति गहरा आक्रोश भी है। पुलिस से न्याय न मिल पाने की उम्मीद को देखते हुए शनिवार को मृतिका के पिता ने जिलाधिकारी से मुलाकात कर इंसाफ दिलाने की गुहार लगायी है ।

रॉबर्ट्सगंज थाना क्षेत्र के वार्ड 16 निवासी मृतिका के पिता बीरेंद्र सिंह ने बताया कि उन्होंने 23 वर्षीया अपनी बेटी आरती का विवाह बीते 7 मार्च को पन्नूगंज थाना क्षेत्र के कसारी गाँव निवासी रामजी के पुत्र सुनील कुमार से किया था, जो अमीन के पद पर कार्यरत है । लेकिन विवाह के दो-तीन दिन बाद ही पति और ससुराल वाले उसकी बेटी को दहेज के लिए प्रताड़ित करने लगे। हमलोगों ने ससुराल वालों से इस विषय पर बात किया तो कुछ दिन सब ठीक रहा लेकिन रक्षाबंधन के बाद से पुनः वहीं दहेज की माँग शुरू हो गयी। बीते 31अगस्त को किसी से जानकारी मिली आरती की तबियत खराब है और ससुराल के लोग उसे लेकर रॉबर्ट्सगंज के उरमौरा स्थित एक निजी चिकित्सालय लेकर गए हैं। आनन-फानन में हम लोग भी उक्त निजी चिकित्सालय पहुँचे, जहाँ डॉक्टरों ने मेरी बेटी को देखते ही मृत घोषित कर दिया। हम सभी लोग उसे वहाँ से लेकर जिला अस्पताल पहुँचे, वहाँ भी डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। जिसके बाद पन्नूगंज थाने में पति, सास, ससुर समेत 6 लोगों के खिलाफ दहेज हत्या का मुकदमा दर्ज कराया गया है लेकिन अभी तक किसी की भी गिरफ्तारी नहीं हुईई है और सभी आरोपी अभी तक पुलिस की गिरफ्त से दूर हैं।
पीड़ित पिता का कहना है कि आरोपियों की गिरफ्तारी न होने से मामले में पुलिस की मिलीभगत से लीपापोती की जा सकती हैं। उन्होंने उच्चाधिकारियों से इंसाफ की गुहार लगाते हुए आरोपियों को जल्द गिरफ्तार करने की माँग की है।

विवेचक क्षेत्राधिकारी कोन अभिनव यादव ने बताया कि आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए तीन टीमें बनायी गयी हैं और पुलिस की तीनों टीमें लगातार दबिश दे रही हैं लेकिन अभी तक आरोपियों का सुराग नहीं मिल पाया है। उम्मीद है जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!