विद्यालय जाने के लिए नही है रास्ता

7 सितंबर 2019

अबुलकैश ब्यूरो
* पानी मे कूद कर स्कूल जाते हैं बच्चे

धानापुर। देश चांद पर पहुंच गया है। सरकार द्वारा शिक्षा के स्तर और व्यवस्था को दुरुस्त करने के लिए आये दिन नई नई योजनाएं लायी जा रही हैं। लेकिन अफसरशाही के चलते आज भी देश के भविष्य कहे जाने वाले छोटे छोटे बच्चे जान जोखिम में डाल कर स्कूल पहुंच रहे हैं। बात है विकास खंड क्षेत्र के जगदीशपुर प्राथमिक विद्यालय की जहां विद्यालय पहुचने के लिए बच्चों को पगडंडियों से पानी भरे नालियों में कूद कर स्कूल जाना पड़ रहा है। जो बहुत ही जोखिम भरा है प्रतिदिन बच्चे फिसल कर पानी मे गिरते है जिससे उनके कॉपी किताब भींगते हैं और चोट भी आती है। सबसे ज्यादा डर अभिभावकों इस बात की होती है कि स्कूल के पास पगडंडी के बगल में भरे तालाब से है जिसमे बच्चो के गिरने का डर बना रहता है। अभिभावक राजू राजभर, दीपक, करन, संजय, अनिल शिवकुमार, प्रमीला, गोपाल, गंगा, घनश्याम का कहना है कि विद्यालय जाने के लिए भूलेख में बकायदा रास्ता है लेकिन ग्रामप्रधान द्वारा उसपर खड़ंजा नही लगाया जा रहा है जिससे मजबूरी में बच्चों को जोखिम भरे रास्तों से भेजना मजबूरी है। वही प्रधानाध्यापक विनोद कुमार का कहना है कि विद्यालय में 70 से 80 बच्चे इसी रास्ते से है। घूम कर आने में उन्हें लगभग वक किलोमीटर की दूरी तय करनी पड़ती है। उन्होंने भी उक्त रास्ते को जोखिम भरा बताया। ग्रामीणों ने जिला प्रशासन का ध्यान आकृष्ट कराया है।
क्या कहते हैं अधिकारी
इस बाबत खंड शिक्षा अधिकारी कन्हैया लाल ने अपनी जिम्मेदारी न बताते हुए कहा कि यह मामला ब्लॉक और ग्रामप्रधान का है कि रास्ता क्यों नही है।
क्या कहते हैं खंड विकास अधिकारी
बीडीओ सुशील मिश्रा ने बताया कि इसकी जानकारी शिक्षा विभाग द्वारा नही दी गयी थी जिसके कारण ऐसा है लेकिन सोमवार तक जांच कर जल्द ही रास्ता बनवाया जाएगा।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!