मोहर्रम की छः तारीख पर उठाया गया मासूम अली असगर का झूला

06 सितम्बर 2019

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

“थरथरा गए जालिम खौफ से लरज उठे।

एक नन्हे असगर ने करबला हिला डाला।”

सोनभद्र ।

मोहर्रम की छःतारीख पर आज इमाम हुसैन के छह माह के बच्चे मासूम अली असगर की शहादत पर असगर के झूला का जुलूस निकाला गया।

करबला के मैदान में शहीद होने वाले सबसे कम उम्र के जनाबे अली असगर थे। इनकी याद में बच्चों ने झूला भी उठाया और उससे अपनी मुरादें मांगी। आज रात को मोहर्रम की छः तारीख के मौके पर शहर के हीरा बाबा के घर से जुलूस का आगाज़ हुआ । जुलूस में लोग ढोल नगाड़े तासे के साथ नौहा और मर्सिया पढ़ते हुए साथ ही मातम करते हुए चल रहे थे। बताते चले कि करबला में यजीदी फौज ने ऐसा कोई जुल्म न था जो इमाम हुसैन पर न किया हो। यजीदी फौज के सिपहसलार हुरमुला ने इमाम के महज छह माह के बच्चे जनाबे अली असगर को भी गले में तीर मारकर शहीद किया था। करबला के मैदान में इमाम तीन दिन से प्यासे अली असगर के लिए पानी लेने गए थे।

जनाबे अली असगर की याद में आज रॉबर्ट्सगंज नगर में उनका झूला उठाया गया जिससे लिपटकर सभी ने अपनी मुरादें मांगी। छठीं मोहर्रम पर आज रात हीरा बाबा के घर से झूले का जुलूस निकाला। नगर भ्रमण करते हुए पुनः हीरा बाबा के घर जाकर समाप्त हुआ। जुलूस में शामिल सोगवार ‘या हुसैन’ की सदाएं बुलंद कर रहे थे साथ ही मातम भी कर रहे थे। इस दौरान अली असगर की याद में नौहा भी पढ़ा गया। जुलूस में सोगवारों की अश्कबार आंखें कर्बला की घटना को ताजा कर रही थीं। इसके पूर्व इमामबाड़ा शाबान मंजिल में एक मजलिस-ए-हुसैन का आयोजन किया गया। मजलिस में मौलाना मोहम्मद आरिफ ने कहा कि कर्बला के मैदान में शहीद होने वालों में हजरत अली असगर सबसे छोटे थे। शहीद होने के वक्त वह महज छह माह के थे। इमाम हुसैन तीन दिन के प्यासे अपने इस बच्चे को पानी पिलाने के लिए कर्बला के मैदान में लेकर आए थे। उन्होंने यजीदी फौज से सिर्फ इस बालक के लिए पानी का सवाल किया था, इसके जवाब में तीर चलाकर बालक को शहीद कर दिया गया।

मजलूम इमाम ने एक नन्हीं सी कब्र खोदकर लाश को दफना दिया। इमाम हुसैन की शहादत के बाद यजीदी फौज ने कब्र को खोदकर बच्चे का सिर कलम कर दिय। जुलूस में ताज़िया कमेटी के सदर रोशन, मुश्ताक खान, हिदायत उल्ला खान, मुनीर भाई, प्यारे चौधरी, अशरफी यामीन खान, अंशु खान आदि मौजूद रहे। जुलूस की सुरक्षा के लिए पुलिस प्रशासन मुस्तैद रही।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!