ग्रामीणों के दबाव में जांच टीम ने देखा स्वच्छता का हाल, मामला तक तक पहुंचा

30 अगस्त 2019

विवेक मिश्रा (संवाददाता)

शाहगंज । सोनभद्र थाना क्षेत्र के इनम गांव में गुरुवार को स्वच्छता संबंधित लखनऊ के टीम गांव में जांच के लिए आई जिसमें घोरावल ब्लॉक के एडीओ पंचायत भी मौजूद थे । स्वच्छता अभियान की टीम के आने की सूचना को लेकर गांव के कुछ गलियों को साफ सुथरा कराया गया था। जब टीम गांव में स्वच्छता अभियान की जांच कर रही थी तभी ग्रामीणों ने गांव में अन्य गलियों में भी चल कर स्वच्छता की जमीनी हकीकत देखने के लिए जांच समिति के सदस्यों से आग्रह किया। लेकिन ब्लॉक के कुछ आला अधिकारियों ने समय अभाव का जिक्र करते हुए जाने की बात कही तो ग्रामीण उग्र हो गए और जांच समिति को चारों तरफ से घेर लिया । बाद में अधिकारियों ने गांव के अन्य गलियों का भी निरीक्षण किया जिसमें बजबजाती नालिया व चारों तरफ गंदगी का अंबार लगा हुआ था। फिर जांच टीम ने गांव में ही बने प्राथमिक विद्यालय का भी निरीक्षण किया और ग्रामीणों के बीच बैठक की ग्रामीणों के विरोध के चलते जांच समिति के सदस्यों ने गांव की हर गलियों मैं स्वच्छता का हाल जाना इन सब से तिल मिलाए पंचायत मित्र ने ग्रामीणों को धमकी भी दी फिर अधिकारियों का दल गांव से चला गया । फिर देर शाम इनाम गांव के ही मुन्ना जयसवाल शाहगंज से किसी काम से इनाम गांव अपने घर जाने लगे रास्ते में मसोई गांव के पास पहले से लाठी डंडे से तैयार पंचायत मित्र ने अपने साथियों के साथ उस पर हमला कर दिया जिससे वह मोटरसाइकिल छोड़कर भागने लगा ।लेकिन दर्जनों की संख्या में लोग उसका पीछा करने लगे । तभी आगे से आ रही पुलिस ने मुन्ना जायसवाल को अपने गाड़ी में बैठा कर थाने ले आई। जैसे ही इसकी सूचना इनम गांव में फैली लोग आग बबूला हो गए और सैकड़ों की संख्या में लोग थाने की तरफ निकल पड़े । पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए हमलावर अमरनाथ विश्वकर्मा श्यामा विश्वकर्मा पंचायत मित्र महेंद्र विश्वकर्मा को थाने ले आई । ग्रामीणों के जबरदस्त विरोध की वजह से तीनों आरोपियों के खिलाफ एफ आई आर दर्ज कराई गई और उसे पुलिस ने जेल भेज दिया ।

इस बाबत मुन्ना जायसवाल ने बताया कि स्वच्छता अभियान के टीम के सामने स्वच्छता की पोल खोलना हमारे लिए महंगा पड़ा । आगे बताया कि उक्त पंचायत मित्र की तैनाती इनाम ग्राम पंचायत में है जबकि नियमानुसार इसका ग्राम पंचायत दूसरा है । गांव में हो रहे भ्रष्टाचार में इसके अहम भूमिका रहती है। विरोध करने पर यह ग्रामीणों को धमकी भी देता रहता है उक्त पंचायत मित्र के खिलाफ अगर ठोस कार्यवाही नहीं हुई तो हम लोग जिलाधिकारी कार्यालय पर धरने के लिए बाध्य होंगे।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!