कोटा ग्राम पंचायत में सीसी रोड के नाम पर हो गए लाखों के भुगतान, रोड नदारत, ग्रामीण स्तब्ध

30 अगस्त 2019

शशि चौबे / संजय केसरी (संवाददाता)

डाला। जनपद सोनभद्र में जैसे पुलिस विभाग के इंस्पेक्टर से लेकर सिपाही तक की दिली इच्छा होती है कि वह एक बार अनपरा शक्तिनगर बीजपुर और पिपरी में पोस्ट हो। उसी प्रकार विकास विभाग में कोटा पनारी व कुलडोमरी में नौकरी करने की हर सेक्रेटी की दिली ख्वाइश रहती है। करोड़ों रुपये के बजट वाले इन ग्राम पंचायतों में प्रधानी का चुनाव भी किसी विधायकी से कम नहीं होता । करोड़ों रुपये के बजट वाले इन ग्राम पंचायत में खेल भी बड़े होते हैं । जिसकी वजह से हर आलाधिकारियों के टारगेट पर ये ग्राम पंचायतें रहती है लेकिन वावजूद इसके भ्रष्टाचार भी बड़े पैमाने पर होते हैं, वह भी अधिकारियों की मिलीभगत से । ऐसा ही मामला इन दिनों कोटा ग्राम पंचायत में देखा जा सकता है, जहां प्रधान व सेक्रेटरी की इस तरह मनमानी चल ही है कि इस ग्राम पंचायत के टोला अबाड़ी क्षेत्र में बिना काम कराए ही पैसा निकाल लिया गया । ग्राम पंचायत के अबाड़ी टोले में ज्यादातर घरों में सीसी रोड दिखाकर पैसा निकाल लिया गया । गरीब व अनपढ़ लोगों के नाम पर लाखों रुपये निकाल लिया गया और ग्रामीणों को अब तक पता नहीं ।
इस संबंध में जब लोगों से पूछा गया तो वह भी इतने बड़े फर्जीवाड़े को सुनकर दंग थे । ग्रामीणों का कहना हैं कि उनके नाम पर रोड तो पास हो गया पर यहाँ कुछ भी बना नही हैं । इतना ही नहीं इस कार्य के लिए मटेरियल तक नहीं गिरा ।

इस बात की जानकारी लिया तो अमरजीत खरवार ने बताया कि उसके नाम से रोड से उसके घर तक सीसी रोड पास हुआ है तो बनना चाहिए परन्तु यहां कुछ भी नही बना है और न ही कोई मटेरियल गिरा हैं जिसकी जांच होनी चाहिए।

वहीं विजेंदर सिंह खरवार पुत्र भगवती ने बताया कि मेरे पिताजी के नाम से सीसी रोड पास हुआ पर बनने की दूर वहां एक गिट्टी तक नही गिरा हैं जिसकी जांच होनी चाहिए।

मनोहर खरवार ने बताया कि प्रधान के द्वारा जिस तरह से विकास के नाम पर हमलोगों को ठगा जा रहा हैं और जिस तरह से गांव के लोगों के नाम पर सीसी रोड पास किया गया हैं वह इस गांव में एक भी लोगों घर तक कोई सीसी रोड नही बना हैं । उनका कहना है कि हम मीडिया के माध्यम से जिलाधिकारी का ध्यान आकृष्ट कराना चाहते हैं कि अबाड़ी क्षेत्र में प्रधान के द्वारा कोई ऐसा कार्य नही हुआ हैं और जैसा कि सीसी रोड प्रधान द्वारा दिखाया जा रहा हैं । इन सभी की जांच होनी चाहिए । यहाँ के एक सदस्य ने बताया कि हाल ही में यह जानकारी हुई कि रोड के नाम पर पैसा तक निकल गया जबकि यहां मौके पर कुछ भी नहीं ।

आपको बतादूँ कि ग्राम पंचायत में पहले कार्य योजना बनता हैं और फिर उस कार्य मटेरियल के लिये टेंडर होता हैं और टेंडर प्रकिया होने के बाद ही पर मटेरियल गिरता हैं तब उस मटेरियल का पेमेंट होता हैं, परन्तु कोटा ग्राम पंचायत में प्रधान के द्वारा सीसी रोड का कार्य हुआ ही नही और ना ही उस कार्यस्थल पर मटेरियल ही गिरा परन्तु इस कार्य पर मार्च में ही चेक द्वारा भुगतान कर दिया गया हैं।

वही इस पूरे मामले पर प्रधान का कहना यह हैं कि यह जो चेक कटा हैं वह रनिंग पेमेंट किया गया हैं और उस पर कार्य होना हैं।

शासन – प्रशासन भले ही तमाम विकास के दावे और जीरो टॉलरेंस की बात करती हो मगर ग्रामीण अंचलों में आज भी स्थिति वही है जैसे पहले हुआ करती थी । आज भी प्रधान व सेक्रेटरी गरीब और कम पढ़े लिखे लोगों के नाम पर खेल खेल रही है ।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!