बेसिक शिक्षा विभाग में बड़ी कार्यवाही, हड़कम्प

28 अगस्त 2019

राजकुमार गुप्ता (संवाददाता)

घोरावल (सोनभद्र) । घोरावल शिक्षा क्षेत्र के अलग-अलग विद्यालयों पर तैनात पांच प्रभारियों का एक वार्षिक वेतन वृद्धि रोकने का आदेश बेसिक शिक्षा अधिकारी ने मंगलवार की रात को जारी किया। वहीं दो एबीआरसी सस्पेंड किए गए। एक महिला अध्यापिका विद्यालय में उपस्थित नहीं रही जिस कारण उनका एक दिन का वेतन रोका गया। यह सभी कार्यवाही अपर निदेशक बेसिक शिक्षा रमेश तिवारी के एक माह पहले हुई जांच के दौरान हुई है। एडी बेसिक ने 29 जुलाई को घोरावल शिक्षा क्षेत्र के कई विद्यालयों में जांच की थी। निम्न क्वालिटी, घटिया एमडीएम, शैक्षिक गुणवत्ता में कमी आदि विषयों पर जांच के दौरान अधिकारी गंभीर रूप से नाराज हो गए। जिनमें बैडाड़ प्राथमिक विद्यालय के प्रभारी अविनाश चंद्र शुक्ला, सहदेईया प्राथमिक विद्यालय की प्रभारी नीलू सिंह, जोगिनी प्राथमिक विद्यालय की मृदुला श्रीवास्तव, सिलहटा प्राथमिक विद्यालय के शरद कुमार सिंह, उच्च प्राथमिक विद्यालय सहदेइया के प्रभारी राज गोविंद सिंह का एक वार्षिक वेतन वृद्धि रोकने का आदेश जारी किया गया। वहीं पर घोरावल इंग्लिश मीडियम विद्यालय की प्रभारी स्नेह लता पांडेय विद्यालय में उस दिन उपस्थित नहीं रही जिस कारण से उनका एक दिन का वेतन रोका गया। निम्न क्वालिटी घटिया एमडीएम शैक्षिक गुणवत्ता में कमी के लिए दोषी ठहराते हुए एबीआरसी नंद कुमार शुक्ला तथा एबीआरसी विनोद कुमार को निलंबन का आदेश जारी किया गया। इस कार्यवाही से शिक्षा विभाग में हड़कंप मच गया। वहीं छात्रों के भविष्य को देखते हुए इस कार्यवाही से आम जनता ने हर्ष व्यक्त किया। खंड शिक्षा अधिकरी उदय चन्द्र राय ने बताया कि लगभग एक माह पहले बेसिक शिक्षा के अपर निदेशक रमेश तिवारी ने जांच में उपरोक्त के खिलाफ निम्न क्वालिटी घटिया एमडीएम शैक्षिक गुणवत्ता में कमी पाए जाने पर पांच शिक्षकों के एक वार्षिक वेतन वृद्धि पर रोक लगाया है। साथ ही एक अध्यापिका के अनुपस्थिति पर एक दिन का वेतन रोका गया। और घोरावल के दो एबीआरसी को सस्पेंशन ऑर्डर जारी करने के लिए जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को आदेशित किया।




अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!