जिलाधिकारी ने जनपद में संचालित योजना की समीक्षा

02 अगस्त 2019
दीनदयाल शास्त्री ब्यूरो

-अधिक से अधिक पात्रों को दिया जाये योजनाओं का लाभ


पीलीभीत। जिलाधिकारी वैभव श्रीवास्तव की अध्यक्षता में समस्त विकास कार्यों की समीक्षा बैठक गांधी सभागार पीलीभीत में सम्पन्न हुई। बैठक में जिलाधिकारी द्वारा स्वास्थ्य विभाग के कार्यों की समीक्षा के दौरान पूर्व में दिये गये निर्देशानुसार एम्बुलेंस 108 व 102 को थानों के सापेक्ष लगाये जाने व अस्पतालों तक सुगमता से पहुंचाने हेतु बोर्ड लगवाने के सम्बन्ध में कार्यवाही न होने के कारण स्पष्टीकरण प्रस्तुत करने के निर्देश दिये और साथ ही साथ एम्बुलेंस 108 व 102 की गाड़ियों में समस्त सुविधाऐं मानक के अनुरूप उपलब्ध होने से सम्बन्धित प्रमाण पत्र प्रस्तुत करने के निर्देश दिये।
डीएम द्वारा दियोरिया कलां में निर्माणाधीन सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र की द्वितीय किस्त के सम्बन्ध में लापरवाही के कारण स्वास्थ्य विभाग के जेई का एक दिन का वेतन रोकने व निर्माणाधीन संस्था पर 5 प्रतिशत की कटौती करने के निर्देश दिये। बैठक में प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र ललौरीखेडा में अधिक क्षमता का विद्युत मीटर लगाने के सम्बन्ध में अधिशासी अभियन्ता विद्युत को दो दिन के अन्दर लगाकर रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिये।

साथ ही स्वच्छ भारत मिशन की समीक्षा के दौरान जियो टैगिंग की प्रगति धीमी होने के कारण जिला पंचायत राज अधिकारी को कड़े निर्देश देते हुये 05 दिन में स्थिति सुधारने के निर्देश दिये और इसके साथ ही साथ एडीओ पंचायत अमरिया का 05 दिन का वेतन काटने एवं खण्ड विकास अधिकारी अमरिया का 02 दिन का वेतन काटने के निर्देश दिये गये।
जिलाधिकारी द्वारा विभिन्न पेंशन योजनाओं की समीक्षा के दौरान विकलांग पेंशन के सत्यापन हेतु मेडिकल टीम बनाकर कराये जाने के निर्देश दिये। पेयजल योजनाओं की समीक्षा के दौरान ग्रामों में हैण्ड पम्पों के रिबोर के सम्बन्ध में आदेश जारी करने के निर्देश देते हुये कहा कि रिबोर किये गये हैण्ड पम्प एक वर्ष के अन्दर खराब होते है तो इसकी पूर्ण जिम्मेदारी ग्राम प्रधान व सचिव की होगी और इस सम्बन्ध कड़ी कार्यवाही की जायेगी। बाल विकास विभाग द्वारा इस वित्तीय वर्ष निर्माणाधीन 133 आंगनबाडी केन्द्रों के सम्बन्ध में निर्देश देते हुये कहा कि तत्काल कार्य पूर्ण कराया जाये और जिन ग्राम पंचायतों में अभी तक कार्य प्रारम्भ नही कराया गया है तो उस सम्बन्ध में कारण स्पष्ट करने के निर्देश दिये। इसके साथ ही साथ जिलाधिकारी महोदय द्वारा छात्रवृत्ति योजना, महिला हेल्पलाइन, स्वयं सहायता समूह, प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना की समीक्षा की गई, इस दौरान सभी अधिकारियों को समयबद्वता के साथ गुणवत्ता परक ढंग से कार्य करने के निर्देश दिये और कार्यों के प्रति किसी भी प्रकार की लापरवाही न बरती जाये।
बैठक में मुख्य विकास अधिकारी रमेश चन्द्र पाण्डेय, परियोजना निदेशक अनिल कुमार, जिला विकास अधिकारी योगेन्द्र पाठक, डीसी मनरेगा मृणाल सिंह, जिला अर्थ एवं सांख्यकी अधिकारी नरेन्द्र यादव, अधिशासी अभियन्ता विद्यतु अधिशासी अधिकारी लोक निर्माण विभाग, अधिशासी अधिकारी नगर पालिका निशा मिश्रा सहित जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित रहे।

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!