कोटा ग्राम सभा के 12 सदस्यों ने जिलाधिकारी को सौंपा इस्तीफा, इस्तीफा नामंजूर

01 अगस्त 2019

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । आज चोपन विकास खण्ड अंतर्गत कोटा ग्राम सभा के 12 सदस्यों ने ग्राम प्रधान पर भ्रष्टाचार का आरोप लगा जिलाधिकारी को अपना त्याग पत्र सौंपा हालांकि जिलाधिकारी ने त्याग पत्र न लेते हुए इस प्रकरण को मुख्य विकास अधिकारी और जिला पंचायत राज अधिकारी को हस्तांतरित कर दिया। बताते चलें कि पूर्व में भी ग्राम प्रधान के खिलाफ पत्रक सौंपा गया था लेकिन पहले पत्र पर कोई कार्यवाही नहीं होने से असंतुष्ट सदस्यों ने आज जिलाधिकारी कार्यालय पहुँच अपना इस्तीफा सौंपा लेकिन जिलाधिकारी ने इस्तीफा लेने से इनकार करते हुए इसे मुख्य विकास अधिकारी/जिला पंचायत राज अधिकारी के पास हस्तान्तरित कर दिया। जबकि जिला पंचायत राज अधिकारी आर0के0भारती ने जाँच करने की बात कही। बताते चलें कि प्रधान पर पूर्व में भी भ्रष्टाचार का आरोप लगते रहे हैं।

सदस्यों ने बताया कि ग्राम प्रधान द्वारा बिना कार्ययोजना, बिना प्रस्ताव के गलत व मनमाने तरीके से कार्य कराया जा रहा है तथा सरकारी धन का दुरुपयोग व बंदरबाँट किया जा रहा है। विगत 26 जुलाई को भी हम लोगों ने प्रधान के खिलाफ जाँच करने के लिए पत्रक सौंपा था जिस पर जिला पंचायत राज अधिकारी द्वारा मामले पर लीपापोती करने के उद्देश्य से जिला स्तरीय जाँच न कराकर अपने अधीनस्थ सहायक विकास अधिकारी (पं0) चोपन से कराया जा रहा है। जिस पर हम सभी सदस्यगण न्याय की आस छोड़ जिलाधिकारी को अपना इस्तीफा सौंपने आये हैं।इस दौरान ग्राम सभा के 15 सदस्यों में से इस्तीफा सौंपने वाले 12 सदस्यों में वार्ड नं0 1 से बसंती देवी, वार्ड नं0 2 से रामचंदर गोंड, वार्ड नं0 4 से कलावती, वार्ड नं0 5 से गीता, वार्ड नं0 6 त्रिलोकी, वार्ड नं0 7 विफो देवी, वार्ड नं0 9 से कमलेश, वार्ड नं0 11 से मुस्तफा, वार्ड नं0 12 से अरुण कुमार गुप्ता, वार्ड नं0 13 से मैना देवी, वार्ड नं0 15 से तारा देवी तथा वार्ड नं0 मलका मिर्जा रहे।

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
Back to top button