उन्नाव रेप पीड़िता ने चीफ जस्टिस को 12 जुलाई को लिखा था खत, इस बात की दी थी जानकारी

30 जुलाई 2019

उन्नाव रेप पीड़िता के साथ उत्तर प्रदेश के रायबरेली में रविवार को हुए एक्सीडेंट के बाद जहां उसकी हालत नाजुक बनी हुई है और उसे वेंटिलेटर पर रखा गया तो वहीं दूसरी तरफ इस एक्सीडेंट को एक षडयंत्र बताया जा रहा है। जबकि, इसमें और कई चीजें अलग-अलग निकल कर सामने आ रही हैं।

चीफ जस्टिस को उन्नाव रेप पीडिता ने लिखा था खत

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, उन्नाव रेप केस की पीड़िता ने इससे पहले सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गोगोई को भी खत लिखा था। यह खत 12 जुलाई 2019 को उन्नाव रेप पीड़िता की तरफ से लिखा गया है। इसमें यह कहा गया है- “उन लोगों के खिलाफ कार्रवाई कीजिए जो हमें धमका रहे हैं।” पत्र में आगे लिखा गया है- “लोग मेरे घर आते हैं, धमकाते हैं और केस वापस लेने की बात कर ये कहते हैं कि ऐसा नहीं किया तो पूरे परिवार को फर्जी केस में जेल में बंद करवा देंगे।”
रायबरेली जेल में बंद पीड़िता के चाचा को मिला पैरोल

रायबरेली जेल में बंद पीड़िता के चाचा को मिला पैरोल

उधर, रायबरेली जेल में बंद पीड़िता के चाचा महेश सिंह को एक्सीडेंट में मारी गई पत्नी और साली की अंतिम संस्कार में हिस्सा लेने की इजाजत मिल गई है। उन्नाव रेप कांड पीड़िता के चाचा महेश सिंह को कल मिलेगी पेरोल। रायबरेली जिला जेल से बुधवार को अंतिम संस्कार में शामिल होगा पीड़िता का चाचा महेश सिंह।

उन्नाव रेप पीड़िता के चाचा को अंतिम संस्कार के लिए एक दिन की शॉर्ट टर्म बेल हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने मंजूर की। न्यायमूर्ति मोहम्मद एफए खान की बेंच ने जेल, पुलिस व जिला प्रशासन को आदेश दिया है कि बुधवार को उसे जेल से पूरी सुरक्षा में अंतिम संस्कार के लिए ले जाया जाए व अंतिम संस्कार के बाद वापिस जेल में दाखिल किया जाए।

उक्त आदेश पीड़िता के चाचा की ओर से दाखिल प्रार्थना पत्र पर दिया है। प्रार्थना पत्र में 48 घंटे के लिए शॉर्ट टर्म बेल दिये जाने की मांग की गई थी। उल्लेखनीय है कि पीड़िता के चाचा को एक आपराधिक मुकदमे में दोषसिद्ध किया गया है जिसके विरुद्ध उसने हाईकोर्ट में अपील दाखिल की हुई है। उक्त अपील में ही शॉर्ट टर्म बेल की प्रार्थना पत्र दाखिल की गई थी।

दिनेश शर्मा ने कहा- हम पीड़ित परिवार के साथ

यूपी के उप-मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने लखनऊ के केजीएमयू अस्पताल में उन्नाव रेप पीड़िता से मिलने के बाद बताया कि सरकार पीड़ित परिवार के साथ है। जैसे उन लोगों ने कहा उसके मुताबिक एफआईआर दर्ज कर ली गई है। परिवार ने पीड़िता की चाचा के पैरोल के लिए आवेदन किया था, कोर्ट ने फैसला ले दिया है। वे आएंगे और अंतिम संस्कार में हिस्सा लेंगे।

उन्नाव पीड़िता के परिवार से मिली राष्ट्रीय महिला आयोग की टीम

उधर, राष्ट्रीय महिला आयोग की टीम लखनऊ में उन्नाव रेप पीड़िता और उसके परिवार से मिलने पहुंची। टीम के साथ डीजीपी, आईओ और एसएसपी भी मौजूद थे। टीम ने पीड़िता की मां से मुलाकात की हालांकि वे पीड़िता से नहीं मिल पाई क्योंकि डॉक्टर ने सलाह दी थी कि अभी पीड़िता उस हालात में नहीं है कि वे किसी से मुलाकात करे।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!