करेंट की चपेट में आने से हाथी की मौत, हड़कम्प, पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद सामने आएगी सच्चाई

27 जुलाई 2019

उमेश कुमार शर्मा (ब्यूरो)

पलियकलां (खीरी)। दुधवा टाइगर रिजर्व के सठियाना रेंज से लगभग 100 मीटर की दूरी पर नार्थ खीरी फारेस्ट एरिया के बफर जोन में ग्रामनिषाद नगर घोला के राजेंद्र प्रसाद के गन्ने के खेत में लगे विद्युत ट्रांसफार्मर से बिजली का करंट लगने से एक जंगली जानवर हाथी उम्र लगभग 40 वर्ष की मृत्यु हो गयी।सूचना पर वन विभाग के अधिकारी मौके पर पहुंच गए। अनुमान है। डाक्टरों का पैनल उसका पोस्टमार्टम करके मृत्यु के कारण की जानकारी देने की बात कही है।
उल्लेखनीय है कि इसी तरह की घटना आठ जुलाई 2011 को निघासन क्षेत्र के ग्राम दुबहा के पास हुई थी जिसमें तीन हाथीयों की बिजली का करेंट लगने से मौत हुई थी। इतना ही नहीं, इससे पहले भी बिजली का करेंट दुधवा के एक गैंडे को भी लग चुका है और उसकी भी बिजली के करेंट के कारण मौत हो गई थी।लेकिन वन भूमि पर हो रहे अतिक्रमण को देखने वाला कोई नहीं है।

अतिक्रमण से जंगलों के सिमटने से वन्यजीव अक्सर जंगल के बाहर आ जाते हैं। जिनमें हिरन, चीतल, लीलगाय सुअर आदि वन्यजीव शिकारियों के निशाने से जहां असमय काल के गालमें समा जाते हैं वहीं अन्य बड़े वन्यजीव बिजली के करेंट अथवा ट्रेन की चपेट में आकर अपनी जान गवां देते है।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!