कीचड़ से सनी गलियां,बहा रही अपनी बदहाली पर आँसू

20 जुलाई 2019

रिविन शुक्ला (संवाददाता)

-इसी कीचड़ भरे रास्ते से गुजर कर पढ़ने जाते हैं, नन्हे मुन्ने बच्चे

बिलसंडा पीलीभीत। ब्लॉक क्षेत्र की ग्राम पंचायत नौआनगला उर्फ हरुनगला के मजरा गुलड़िया मरौरी में विकास का पहिया इस प्रकार दौड़ा की गांव की गलियां खुद अपनी स्थिति का बयान कर रही है।
वही ग्रामीणों द्वारा गांव के सम्बंध में जानकारी दी गई है।
कि गांव के महेंद्र सिंह चौहान पुत्र भगवान सिंह चौहान के मकान के सामने की गली में कीचड़ व गन्दा पानी का भरा पड़ा है, जिस कारण बरसात के मौसम में भयंकर बीमारियों के उतपन्न होने की आशंका जताई जा रही है।
आपको बताते चलें कि गांव के विकास के लिए बीजेपी की सरकार लगातार प्रगतिशील नजर आ रही है,
वही ग्राम प्रधान व सचिव की कार्य प्रणाली में सुधार होता नजर नहीं आ रहा है,
क्योंकि ग्रामीणों द्वारा यह भी अवगत कराया गया है कि गांव में ग्राम प्रधान के दिशा निर्देश पर सचिव द्वारा कार्य कराये जाने की बात भी सामने आ रही है।
वही कहने को तो बीजेपी की राज्य व केंद्र में सरकार है।
साथ ही ग्राम विकास के बड़े बड़े दावे भी सही साबित करती नजर आ रही हैं,
जबकि गॉवों के विकास के लिए लाखो करोड़ो रुपया भी विकास के लिए आवंटित करती हैं,
परन्तु सम्बंधित ग्राम स्तरीय की अनिमितताओं के कारण आज भी ग्रामों का विकास न के बराबर बना हुआ है।
वही हाल जनपद पीलीभीत के ब्लॉक बिलसंडा की ग्राम पंचायत नौआ नगला उर्फ हरुनगला के मजरा गुलड़िया मरौरी का मामला प्रकाश में आया है।
जहां गाव में हुए विकास की एक ताज़ा तस्वीर अपना हाल बता रही है।
जिसमें ग्राम विकास कि पोल खुलते बखूबी देखी जा सकती हैं,
वही आप सभी भी देखे व अंदाजा लगाये की इस तरह के ग्राम विकास के चलते गांव के छोटे बच्चों को विद्यालय जाने आने मे कितनी परेशानियों का सामना करना पड़ता होगा ,
साथ ही गन्दगी से गुजरते हुए, उनके भविष्य़ के साथ खिलवाड़ हो रहा है,
कहने को तो हमारे जिले में प्रशासनिक अधिकारियों की कमी नहीं, काफी लंबी फ़ौज है, शायद उनके पास और भी जरूरी काम है, जिसके कारण इस पर प्रशासनिक अधिकारी द्वारा कोई अमल नहीं किया जा रहा है।
वही शायद कोई नेता भी बिल्संडा व्लॉक मे नही है, जिसने गांव में दलदल, भरे पानी को संज्ञान में लिया हो।
ग्राम प्रधान व सचिव तो चैन की जिंदगी जी रहे है,
पर गांव की जनता का कोई ध्यान नहीं रखा गया है।
वही गांव की जनता के साथ ही नन्हे मुन्ने विद्यालय के बच्चे आज भी गन्दगी भरे कीचड़ से गुजर कर विद्यालय जाने में मजबूर हैं।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!