बिजली का मीटर ग्रामीणो के लिए बना शो पीस, ग्रामीणों ने किया प्रदर्शन

संजय केसरी / अर्जुन मौर्या (संवाददाता)

*गाँव में न खंभा लगा न तार खिचा

डाला। चार वर्ष पूर्व घरो में लगा बिजली का मीटर ग्रामीणो के लिए शो पीस बनकर रह गया है।सम्बंधित विभाग की अनदेखी से आक्रोषित ग्रामीणो ने बिजली मीटर के साथ प्रदर्शन कर मिटर को वापस करने की बात कही।
गाँवो के लिए चल रहा सरकार की सौभाग्य योजना अब दुर्भाग्य योजना बनकर रह गया है। योजना किस गाँव में कहाँ तक पहुची,उसकी क्या प्रगति है।जिसको लेकर सम्बंधित विभाग की उदासिनता ग्रामीणो के लिए सिरदर्द बना हुआ है।ऐसे विभागीय क्रिया कलापो के कारण ही सरकार की महत्वाकाँक्षी योजना फलाप हो रही है।जिसके कारण सरकार के क्रिया कलापो पर लोग प्रश्नचिन्ह लगा रहे हैं।चोपन विकास खण्ड के ग्राम पंचायत कोटा व पनारी के कुछ टोलो में सौभाग्य योजना लोगो के घरो तक पहुचने से पहले ही धराशायी हो गई है।पनारी ग्राम पंचायत के परासपानी टोला निवासी रामअधार,श्रीराम,सुनील कुमार,विश्वनाथ,परासपानी के दक्षिण क्षेत्र में निवासित सूरजलाल ,नन्हें,भगवान दास,बैजनाथ,सोमारू,शिरी,दासे,हरि,कौशल्या,लक्ष्मण,श्रवण,मंगरू,रामकिशुन,धर्मेन्द्र आदि ग्रामीणो के घरो में सौभाग्य योजना अन्तर्गत 2018-19 में विभाग द्वारा बिजली का मीटर लगा दिया गया।लेकिन लगभग चार वर्ष बाद भी न तो बिजली के खंभा गड़ा और ना ही बिजली का तार ही खिचा गया। जो ग्रामीणो के लिए मीटर शो पीस बनकर रह गया है।लोगो ने बताया कि उनके घरो से महज चार-पाँच सौ मीटर की दूरी पर पोल गाड़कर तार लगा दिया गया।लेकिन उनके घरो तक नहीं पहुचाँ। सम्बंधित विभाग की उदासिनता से परेशान लोग घरो में बिजली आने की आस छोड़कर अपने घरो में लगा बिजली मीटर को उखाड़कर वह विभाग को वापस करने की बात कह रहे हैं।

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
Back to top button