बारिश का कहर-सड़क में गड्ढा या गड्ढे में सड़क

धर्मेन्द्र गुप्ता(संवाददाता)

विंढमगंज। स्थानीय क्षेत्र में बीते 4 दिनों से लगातार रुक-रुक कर हो रही मूसलाधार बारिश के कारण जहां आम जनजीवन परेशान हाल है वहीं मुडिसेमर गांव की ओर जाने वाले रास्ते गड्ढे में तब्दील होकर पानी भर जाने से आवागमन प्रभावित हो गया है साथ ही साथ सलैयाडीह ग्राम पंचायत अंतर्गत सीता मोड़ बस स्टैंड के पास राजेश पनिका का कच्चे के रहायशी मकान बीती रात्रि को गिर जाने के कारण घर के सदस्यों को रहने में काफी दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है।
गौरतलब है कि रांची रीवा राष्ट्रीय राजमार्ग से जुड़ा मुडिसेमर ,मेदनीखाड़, धूमा, हरपुरा, छतवा, छतरपुर जाने वाला मेन रोड बंधु नगर में बुरी तरह से गड्ढे में तब्दील हो गया है। रोड गड्ढे में तब्दील होने के कारण बरसात का पानी भर गया है जिससे आधा दर्जन गांव से आने जाने वाले राहगीर व सवारी ढोरही टैंपो को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है ।

बंधु नगर निवासी रमेश चंद एडवोकेट, सादिक अंसारी, सज्जन खान, दीपक यादव,राजेश तिवारी ने आक्रोश व्यक्त करते हुए कहा कि जहां एक ओर प्रदेश की सरकार गड्ढा मुक्त रोड बनाए रखने के लिए कटिबद्ध है वहीं दूसरी ओर प्रधानमंत्री सड़क योजना के द्वारा निर्मित ठेकेदार व संबंधित अधिकारी की घोर लापरवाही का ही नतीजा है कि एक तरफ रोड जहां बनती जाती है वही कुछ ही समय बीतने के बाद दूसरी तरफ से रोड उखड़ना शुरू हो जाता है जिसका परिणाम है मुड़ीसेमर मार्ग इस मार्ग पर प्रतिदिन दर्जनों की संख्या टेंपो, पिकअप से सवारियों को दर्जनों गांव से लाते व ले जाते हैं परंतु इस रोड पर इतना बेतरतीब गड्ढे व पानी भर गए हैं कि गाड़ी को गड्ढे में पार करने के लिए लोगों को सोचना पड़ रहा है।

लोग मेन रोड को छोड़कर पगडंडी के रास्ते से मोटरसाइकिल चालक तो पार कर जाते हैं परंतु बड़ी गाड़ियां जान जोखिम में डालकर किसी तरह से इस पानी भरे गड्ढे को पार करने के लिए विवश होते हैं। वही बीते 4 दिनों से लगातार रह-रहकर हो रही मूसलाधार बारिश के कारण जहां आम जनजीवन परेशान व बेहाल हो गया है वही बीती रात्रि सलैयाडीह ग्राम पंचायत के अंतर्गत सीतामोड़ पर राजेश पनिका अपने कच्चे के मकान में रह कर अपने परिवार का भरण पोषण चाय नमकीन बेचकर किया करता था जो बीती रात्रि को कच्चे का मकान भरभरा कर गिर जाने से काफी परेशानी हो गया है मौके पर मौजूद राजेश पनिका ने कहां कि बीती रात्रि को यह बड़ा सहयोग था कि दीवार गिरा भी तो जहां हम लोग सो रहे थे उसके विपरीत गिरा अगर हम लोग के ऊपर ही गिर जाता तो कोई बड़ी अनहोनी हो सकती थी।

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!