अधिवक्ताओं ने भरी हुंकार, जब तक चेंबर नहीं तब तक नवीन तहसील भवन स्वीकार नहीं

गौरव पाण्डेय (संवाददाता)

फरीदपुर । जब तक नवीन तहसील भवन में अधिवक्ताओं को चेंबर नहीं दिए जाते तब तक तहसील का स्थानांतरण नहीं होने दिया जाएगा। यह बात तहसील बार एसोसिएशन की बैठक में सर्वसम्मति से पारित की गई। तहसील बार एसोसिएशन ने आज आपात बैठक कर स्थानीय तहसील प्रशासन को यह दिखाने का प्रयास किया कि हम सब एक हैं किसी भी हालत में बिना चेंबर लिए तहसील का स्थानांतरण नहीं होने देंगे। अधिवक्ताओं ने कहा कि राजस्व नियमावली के अंतर्गत अधिवक्ता और तहसील का आपसी रिश्ता है जिसको लेकर अधिवक्ताओं ने चेतावनी दी कि तहसील परिसर के अंदर अधिवक्ताओं को चेंबर दिए जाएं यदि ऐसा नहीं किया जाता है तो तहसील बार एसोसिएशन आर पार की लड़ाई लड़ेगी जिसकी जिम्मेदारी स्थानीय प्रशासन की होगी। यहां बता दें कि पूर्व में उप जिलाधिकारी के पद पर आए आईएएस प्रशांत शर्मा ने अधिवक्ताओं से कहा था कि आपको नवीन तहसील परिसर में ही चेंबर दिए जाएंगे। जानकारी के अनुसार उप जिलाधिकारी ने तहसील बार एसोसिएशन से यह जाना कि नवीन तहसील भवन में कब से कार्य किया जाए इस बात को लेकर अधिवक्ताओं ने आज आपात बैठक में निर्णय लिए। तहसील बार एसोसिएशन के अध्यक्ष रविंद्र सिंह राठौर, महासचिव चंद्रजीत मिश्रा, संयुक्त सचिव अमित कुमार सिंह तोमर सहित अन्य अधिवक्ताओं ने एक स्वर में तहसील परिसर के अंदर चेंबर दिए जाने का प्रस्ताव पास किया । बैठक में प्रमुख रूप से राम बहादुर सिंह, शाहिद हुसैन, के पी सिंह, राजेश सिंघल, अरुण तोमर, अशोक पांडे, विजय पाल सिंह यादव, दिनेश बाबू शर्मा, एस डी आर्य, सैयद अतहर अली, मुकेश बाबू सक्सेना, मोहर पाल मौर्य, वीरपाल सिंह पाल, रामानंद पांडे, नरेश चंद्र शर्मा, धर्मेंद्र सहाय सक्सेना, महेंद्र पाल गंगवार, सचिन गुप्ता, मुनेंद्र पांडे, संजय सक्सेना, प्रवेश त्रिवेदी, सत्येंद्र सक्सेना, कौशल जौहरी, मोहर पाल, राजेंद्र पाल, रमेश चंद्र पाठक आदि ने विचार रखे। संचालन महासचिव चंद्रजीत मिश्रा ने किया।

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!