न्याय की आस में थाने पहुँची महिला से थानाध्यक्ष ने की अभद्रता, मामला पहुँचा एसपी दरबार

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सरकार बनते ही महिलाओं की सुरक्षा व उनके साथ हो रही घटनाओं को लेकर तुरंत न्याय मिले, उसके लिए प्रदेश के सभी थाना में महिला हेल्प डेस्क अलग से खोला। जिससे कि महिलाओं को तुरंत न्याय मिल सके लेकिन योगी की पुलिस को अपने ही मुख्यमंत्री का आदेश को दर किनार कर पीड़ित महिलाओं को न्याय दिलाने की जगह उसके साथ गाली गलौज कर अपमानित कर रहे।

ऐसा ही एक मामला अनपरा में मिला। जहाँ अनपरा थाने में पति से हुए विवाद की फरियाद लेकर थाने पहुँची पाईप लाइन कौवा नाला, औड़ी मोड़ निवासी महिला को न्याय दिलाने के बजाय अश्लील शब्दों में गाली-गलौज कर अपमानित किया गया। आज पीड़ित महिला ने थाना प्रभारी की शिकायत करने एसपी कार्यालय पहुँची लेकिन क्राइम मीटिंग में व्यस्त होने के कारण एसपी से पीड़ित महिला की मुलाकात नहीं हो पाई।

पीड़ित महिला आशा गुप्ता ने थाना प्रभारी पर आरोप लगाते हुए कहा कि “वह एक असहाय गरीब महिला है और उसके छोटे-छोटे बच्चे हैं। वह घरों में बर्तन-झाडू कर अपने बच्चों का जीवकोपार्जन करती है। मामला गत 21 जुलाई का है जब वह उसके साथ घटित अप्रिय घटना की शिकायत लेकर थाने गयी थी लेकिन वहां पर मौजूद कोतवाली प्रभारी उसे देखते ही आपत्तिजनक शब्दों में गाली देते हुए उसे ही थाने पर ही बैठा लिया। लगभग तीन घण्टे उसे थाने में बैठाया रखा गया। वह न्याय पाने हेतु थाना प्रभारी गुहार लगाती रही लेकिन कोतवाली प्रभारी द्वारा अश्लील शब्दों का प्रयोग करते हुए गाली दिया गया जिससे डर कर वह चुप हो गयी। कुछ सामाजिक कार्यकर्ताओं की दखल अंदाजी के बाद उसे तीन घंटे बाद छोड़ा गया। आज पूरे मामले की शिकायत एसपी कार्यालय में दे दी गयी है लेकिन एसपी साहब से मुलाकात नहीं हो पाई।”

थाने में फरियादियों की समस्याओं पर सुनवाई हो, पुलिस पीड़ित से सही ढंग से पेश आए। महिलाओं को सम्मान मिले। इस सभी बिदुओं पर यूपी सरकार भले ही सख्त हो लेकिन पुलिस अफसरों पर भी इस आदेश का असर होता नहीं दिख रहा।

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!