माँगों के समर्थन में कल से एम्बुलेंस कर्मचारी काली पट्टी बांधकर करेंगे काम

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । उ0प्र0 जीवनदायिनी स्वास्थ्य विभाग 108/102 एम्बुलेंस कर्मचारी संघ की स्थानीय इकाई ने माँगों के समर्थन में आंदोलन की राह पकड़ने का संकेत दिया है। आंदोलन के पहले चरण में गया गांधीगीरी करने का निर्णय लिया है। ऐसे में अपनी लंबित मांगो को मनवाने के लिए संघ चरणबद्ध ढंग से कदम उठा रहा है, जिसके प्रथम चरण में संघ ने सीएमओ और जिलाधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजा था। फिर भी यूपी सरकार द्वारा इस मसले पर कोई सुनवाई नहीं की गयी। गांधीगीरी के क्रम में सरकार का ध्यानाकर्षण के लिए एम्बुलेंसकर्मी शुक्रवार यानी 23 जुलाई से बांह पर काली फीता बांधकर कार्य करेंगे।

जीवनदायिनी स्वास्थ्य विभाग 108/102 एम्बुलेंस कर्मचारी संघ के जिलाध्यक्ष अश्विनी पांडेय ने लंबित माँगों के बारे में बताया कि “एएलएस एम्बुलेंस पर कार्यरत कर्मचारियों को कम्पनी बदलने पर कर्मचारियों को ना बदला जाए अनुभवी कर्मचारियों को ही रखा है। कोरोना महामारी के दौरान अग्रणी भूमिका निभा रहे कोरोना योद्धाओं, कोरोना वारियर्स एम्बुलेंस कर्मचारी को ठेकेदारी प्रथा से मुक्ति देते हुए एनएचएम के अधीन किया जाय। कोरोना काल में शहीद हुए आश्रितों के परिवार को जल्द बीमा राशि ₹50,00,000/- और सहायता राशि जो सरकार की तरफ से जारी हो दी जाय। कम्पनी बदलने पर वेतन में किसी भी तरह की कटौती न की जाए। सभी एम्बुलेंस कर्मचारियों को नेशनल हेल्थ मिशन के अधीन नहीं किया जाता है तब तक मिनिमम वेज तथा 4 घण्टे की ओटी दिया जाय। प्रतिवर्ष ₹23000/- लगभग मंहगाई भत्ता भी दिया जाय। वहीं प्रशिक्षण शुल्क के नाम पर कर्मचारियों से डीडी ना ली जाए हम सभी कर्मचारी पूर्व कम्पनी में सेवा दे रहे हैं और प्रशिक्षित कर्मचारी हैं। यदि संगठन के सभी माँगों को सरकार व कम्पनी नहीं मानती है, तो 23 जुलाई को धरने के लिए संगठन बाध्य होगा, जिसका समस्त जिम्मेदार सरकार व कम्पनी होगी।”

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!