जनसंख्या नियंत्रण कानून का हमारे जनप्रतिनिधि कितना करते हैं पालन, पढ़ें पूरी रिपोर्ट

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । यूपी में परिवार में दो बच्चों के क़ानून पर सियासी घमासान मचा हुआ है। जहां एक तरफ सीएम योगी ने इस कानून का पालन न करने वालों की सुविधा कम करने की बात कही है वहीं बीजेपी के विधायक इस कानून का स्वागत करते हुए इसे जरूरी बता रहे हैं। मजे की बात यह है कि पैरवी करने वाले बीजेपी के 304 विधायकों में से 152 के 3 से लेकर 8 बच्चे तक हैं।

प्रदेश के सबसे पिछड़े व अंतिम जनपद सोनभद्र की बात करें तो सोनभद्र में चार विधायक हैं। चार विधान सभा में से तीन पर बीजेपी का कब्जा है जबकि एक पर बीजेपी के सहयोगी अपना दल (एस) का कब्जा है।

2017 विधानसभा चुनाव लड़ते समय इन विधायकों ने जो अपनी पारिवारिक स्थिति निर्वाचन आयोग को दी थी, उसके मुताबिक रावर्ट्सगंज सदर विधायक भूपेश चौबे के दो बच्चे हैं। भूपेश चौबे स्नातक पास हैं।

देखें वीडियो

जबकि भाजपा से घोरावल विधायक अनिल मौर्या के चार बच्चे हैं। अनिल मौर्या पीएचडी किये हुए हैं । इसलिए वे अपने नाम के आगे डा0 लगाते हैं ।

इसके अलावा भाजपा से ही ओबरा विधायक संजीव गोंड़ के तीन बच्चे हैं। वे हाईस्कूल पास हैं।

वहीं दुद्धी से अपना दल (एस) के विधायक हरिराम चेरो के 8 बच्चे बताए जा रहे हैं। जिसमें चार पुत्र व चार पुत्रियां शामिल है। हरिराम चेरो भी हाई स्कूल की शिक्षा प्राप्त की है।

अभी विश्व जनसंख्या दिवस पर विधायक हरिराम चेरो का एक ट्वीट भी सामने आया था जिसमें वे जनसंख्या नियंत्रण को लेकर लोगों को जागरूक कर रहे हैं ।

अभी बीजेपी के विधायक भले ही इस प्रस्ताव का स्वागत कर रहे हैं लेकिन विधानसभा चुनाव के पहले यदि यह प्रस्ताव पास हो जाता है और दो से अधिक विधायकों के चुनाव लड़ने पर रोक लगती है तो जनाबे अली का क्या होगा।

बहरहाल प्रस्ताव में यह रोक अभी निकाय चुनाव तक ही लगाई गई है और शायद इसी खतरे की घंटी को देखते हुए वाराणसी दौरे में प्रधानमंत्री मोदी ने जनसंख्या नियंत्रण कानून पर चुप्पी साध रखी थी।

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!