बिजली विभाग में दावे बड़े मगर दर्शन छोटे, अघोषित बिजली कटौती से लोगों की बढ़ी परेशानी

गौरव पाण्डेय (संवाददाता)

– उमस भरी गर्मी ने लोगों की बढ़ाई मुसीबत

फरीदपुर (बरेली) । जून में मौसम का मिजाज बदला तो लोगों के चेहरे भी खिल उठे । मौसम वैज्ञानिकों ने भी जल्द मानसून आने की बात कहने लगे थे । लेकिन जुलाई के शुरू होते ही भीषण गर्मी का प्रकोप भी शुरू हो गया । हर दिन पारा चढ़ता जा रहा है। इन दिनों पूरा जनमानस इस उमस भरी गर्मी से परेशान है। खेत खलिहान सब सूख रहा है। पौधे भी बेजान नजर आने लगे हैं। वहीं बिजली विभाग भी इन दिनों आंखमिचौली खेल रहा है । अघोषित बिजली कटौती से घरों में रह रहे लोग और भी बेचैन हो जस रहे । बाहर चिलचिलाती धूप तो घर में उमस भरी से लोग बेहाल हो रहे हैं । बिजली विभाग की लापरवाही का आलम यह है कि बिजली के फाल्ट इतनी अधिक संख्या में होने शुरू हो गए हैं जिनका कोई हिसाब नहीं है । दिन-रात अंधाधुंध बिजली कटौती की जा रही है। फरीदपुर विद्युत उप केंद्र पर जब कोई बिजली बंद होने की सूचना पता करना चाहता है तो सीधा यही जवाब मिलता है फाल्ट हो गया है काम चल रहा है ठीक होते ही बिजली चालू कर दी जाएगी। यानि रटा रटाया जबाब । शहर से लेकर देहात तक बिजली का बुरा आलम है। लाइनें जर्जर हो चुकी है लेकिन दावे बड़े बड़े किये जाते हैं । गर्मी के चलते उन लाइनों में अक्सर फाल्ट होते रहते हैं ।मगर बिजली विभाग ऐसी जर्जर लाइनों को समय रहते बदलवाने की कोशिश ही नहीं करता है। जिसका नतीजा यह होता है कि गर्मी शुरू होते ही बिजली के फाल्ट होने शुरू हो जाते हैं। और इस लापरवाही का खामियाजा जनता को ही भुगतना पड़ता है।

लोगों का कहना है कि जिस तरीके से विद्युत विभाग बिजली बिल वसूलने में तत्परता दिखाता है बिल जमा न करने पर कनेक्शन काट दिए जाते हैं। मगर बिजली की जर्जर लाइने होने पर बिजली विभाग पर कोई जुर्माना नहीं होता है। बढ़ती गर्मी के चलते आए दिन लगे ट्रांसफार्मर भी फुंक जाते हैं। शिकायत करने पर कई कई दिनों बाद बदले जाते हैं । जबकि 24-48 घण्टे का दावा किया जाता है । बिजली विभाग की इस लापरवाही को लेकर क्षेत्र की जनता काफी परेशान है।

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!