4 वर्षों से अनुपस्थित चल रही आँगनबाड़ी सहायिका बर्खास्त

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । काम में लापरवाही बरतने पर जिला परियोजना अधिकारी ने एक आँगनबाड़ी सहायिका की सेवा समाप्त कर दी हैं। यह कार्यवाही जिलाधिकारी के आदेश के क्रम में कई गयी है। यह सहायिका फरवरी, 2017 से ही आंगनबाड़ी केन्द्र से अनुपस्थित थी। इस कारण केन्द्र बंद रहते थे और बच्चों को योजनाओं का लाभ नहीं मिल रहा था।

जिले भर के आंगनबाड़ी केन्द्रों में चल रही लापरवाही पर अब प्रशासन सख्त होता दिखाई दे रहा है। विदित हो कि सबसे ज्यादा लापरवाहियाँ ग्रामीण क्षेत्रों में संचालित आंगनबाड़ी केन्द्रों में देखने को मिल रहा है। यहां पर आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और सहायिकाओं की लापरवाही के कारण बच्चों को शासन की पोषण आहार जैसी योजनाओं का लाभ नहीं मिल रहा है। जबकि एक्पर्ट की मानें तो कोरोना की तीसरी लहर सबसे ज्यादा बच्चों को प्रभावित करेगी।

जिला परियोजना अधिकारी अजीत सिंह ने कहा कि “बाल विकास परिजोजना अंतर्गत आँगनबाड़ी केंद्र हर्दी की सहायिका ममता देवी की जिलाधिकारी के आदेश के क्रम में सेवा समाप्त करदी गयी है। ममता देवी फरवरी, 2017 से ही गायब चल रही थी। इस संबंध में ममता देवी को डीपीओ कार्यालय में उपस्थित होकर अपना पक्ष रखने हेतु निर्देशित किया गया। लेकिन ममता देवी द्वारा उक्त पत्र का जवाब 23 जून को दिया गया। लेकिन जवाब के साथ कोई भी साक्ष्य नहीं लगाया गया और जवाब भी संतोषजनक नहीं है। इसलिए ममता देवी को मानदेय आधारित सेवा समाप्त कर दी गयी।”

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!