सदा बनी रहूं सुहागन, ऐसा दो वरदान

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । सदा सुहागन बनी रहूं, कुछ इसी कामना के साथ आज सुबह स्नान, नए वस्त्र व सोलह श्रृंगार कर सुहागिन अपने पति की लंबी आयु की कामना को लेकर वट वृक्ष की पूजा-अर्चना की। बरगद के पेड़ के चारों ओर घूमकर कच्चा धागा बांधकर पति के साथ बंधे डोर को सात जन्मों के अटूट रहने की कामना है। सोनांचल में वट सावित्री पूजा की धूम रही। बरगद के पेड़ कम होने से एक-एक पेड़ पर बड़ी संख्या में महिलाओं ने पूजन किया। इस बार भी संक्रमण का असर देखा गया। कुछ महिलाओं ने घर पर ही वट वृक्ष की टहनी गमला में लगाकर पूजा की।

शहर के दंडईत मंदिर में स्थित वट वृक्ष के निचे सुबह से ही वट वृक्ष की पूजा करने के लिए सुहागिनों की भीड़ उमड़ने लगी। जनपद में एक भी स्थान नहीं था जहां पर महिलाएं वट वृक्ष की पूजा करते नहीं देखी गईं हों। जानकार बताते हैं कि महिलाएं त्योहार के एक दिन पूर्व दिन में उपवास रखकर रात में अरवा भोजन करती हैं। फिर सावित्री पूजा के दिन वट वृक्ष की पूजा कर अपने अमर सुहाग के लिए के लिए भगवान से प्रार्थना करती हैं। कई ऐसी भी सुहागिनें थी जो पहली बार वट सावित्री की पूजा कर रही थी।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!