नपा के कराये गये कार्यों की हो उच्चस्तरीय जांच- गिरीश पाण्डेय

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)

करोड़ों रुपये के घोटाले का लगाया आरोप

सोनभद्र । गत तीन दिनों से नगर के कई वार्डों में सप्लॉई का पानी नहीं आने से लोगों में रोष है। पानी न आने के कारण पर नगर पालिका के कर्मचारियों ने बताया कि मोटर जल गया है। इस संबंध में समाजसेवी गिरीश पांडेय ने जिलाधिकारी से बात कर पानी की समस्या से अवगत कराते हुए नगर पालिका परिषद द्वारा पिछले पाँच वर्षों में कराए गए विकास कार्यों की उच्च स्तरीय जाँच की माँग की।

समाजसेवी गिरीश पाण्डेय ने कहा कि विकास कार्यों से लेकर टैंकर से पानी आपूर्ति तथा कोविड कार्यक्रम के लिए भी आने वाले पैसों में व्यापक भ्रष्टाचार का परिणाम है कि आज नगर के गलियों की हालत खस्ताहाल है। जरा सी बारिश के बाद सड़कें नाली में तब्दील हो जाती हैं तथा नालियों के गायब ढक्कन दुर्घटना को दावत देते हैं और लोग गिरकर आये दिन चोटिल भी हो रहे हैं। मझिगांव गांव की सीमा के आगे तक पानी निकालने के लिए नगर के नालियों की जल निकासी के लिए करोड़ों रुपए आवंटित थे, जिसका पता नहीं चल रहा है। उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार का आलम यह है कि सफाईकर्मियों के लिए आ रही सुविधायें दस्ताना, मास्क, सेनेटाइज आदि के पैसों को भी जिम्मेदार गटक गए हैं।

गिरीश पाण्डेय ने नगर पालिका परिषद् से गायब खसरा रजिस्टर को भी बड़ा भ्रष्टाचार बताया। उन्होंने कहा कि इतना कमजोर प्रशासन ठीक नहीं कि लोगों की जमीन खिसक जाये और उसे पता भी ना चले। खसरा रजिस्टर के गायब होने के बाद भी न मिलने पर प्रदेश सरकार की मंशा पर भी सवाल उठाए जा रहे हैं।

उन्होंने तंज करते हुए यह भी कहा कि रावर्टसगंज नगर पालिका परिषद् का विकास केवल बढ़ौली चौराहा से सिविल लाइन रोड पर देखने को मिल रहा है बाकी सब राम भरोसे है।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!