कोरोना की तीसरी लहर से बचने की तैयारी में जुटा प्रशासन, तहसील स्तर पर बन रहे ऑक्सीजन युक्त एल-1 प्लस वार्ड

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)

कोरोना की संभावित तीसरी लहर को लेकर तैयारी जारी

● बच्चों को तीसरी लहर से बचाने के लिए 5 कोविड सेंटर तैयार

● इन 5 कोविड केयर सेंटरों में 90 बेड की व्यवस्था

सोनभद्र । कोरोना की संभावित तीसरी लहर को देखते हुए जहां केंद्र सरकार नेजल वैक्सीन पर अनुसंधान कर रही है, वहीं प्रदेश सरकार के अफसर भी तीसरी लहर से निपटने के लिए लगातार अपनी तैयारियों में जुटे हुए हैं। कोरोना की दूसरी लहर में हुई चूक को देखते हुए शासन-प्रशासन अब किसी प्रकार का रिस्क लेने के मूड में नहीं दिख रहे। जैसा कि तीसरी लहर बच्चों के लिए अधिक खतरा बताया जा रहा है, ऐसे में स्वास्थ्य विभाग अपनी तरफ से इलाज में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहता।

सोनभद्र प्रशासन की बात करें तो संभावित तीसरी लहर से निपटने के लिए जिला अस्पताल के अलावा तहसील स्तर पर ऑक्सीजन सुविधायुक्त एक-एक एल-1 प्लस हॉस्पिटल बना रहा है। ताकि यदि संक्रमण आता है तो अफरा-तफरी न मच सके और लोग आसानी से नजदीक में ही अपना इलाज करा सकें।

बच्चों को संक्रमण से बचाने और फौरी उपचार देने के लिए जिला संयुक्त चिकित्सालय परिसर में ऑक्सीजन तथा वेंटिलेटर सुविधायुक्त 50 बेड का एक पीडियाट्रिक आईसीयू वार्ड बनकर लगभग तैयार है। वहीं अब स्वास्थ्य विभाग तहसील स्तर पर ऑक्सीजन सुविधायुक्त 50-50 बेड का एक-एक एल-1 प्लस हॉस्पिटल बना रहा है, जहाँ 10 बेड बच्चों के लिए आरक्षित रहेंगे। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा अस्पतालों का चयन भी कर लिया गया है।

खबर से संबंधित वीडियो देखने के लिए 👇क्लिक करें

कोरोना की संभावित तीसरी लहर की तैयारियों से संबंध में सीएमओ डॉ0 नेम सिंह ने जनपद न्यूज़ Live से खास बातचीत की। इस दौरान उन्होंने बताया कि “दूसरी लहर अब कमजोर पड़ने लगी है, वहीं विशेषज्ञों द्वारा तीसरी लहर की आशंका व्यक्त की जा रही है। विशेषज्ञों द्वारा यह भी बताया जा रहा है कि संभावित तीसरी लहर 0-18 वर्ष उम्र के बच्चों को ज्यादा प्रभावित करेगी। जिसके मद्देनजर हमने अपनी तैयारी शुरू कर दी है। बच्चों के लिए सरकारी अस्पतालों में सुविधाओं को मजबूत किया जा रहा है। जिला स्तर पर एक 50 बेड का ऑक्सीजन और वेंटिलेटर सुविधायुक्त पीडियाट्रिक आईसीयू वार्ड लगभग बन कर तैयार है। वहीं अब तहसील स्तर पर भी 50-50 बेड का ऑक्सीजन सुविधायुक्त एक-एक हॉस्पिटल बनवाया जा रहा है। जिनमें सदर तहसील अंतर्गत सीएचसी मधुपुर, घोरावल तहसील में शाहगंज, दुद्धी तहसील अंतर्गत सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र म्योरपुर तथा ओबरा तहसील अंतर्गत अनपरा के डिबुलगंज स्थित संयुक्त चिकित्सालय को एल-1 प्लस के रूप में विकसित किया जा रहा है। जहाँ ऑक्सीजन की सुविधा के लिए ऑक्सीजन कॉन्संट्रेटर दे दिया गया है साथ ही साथ एक-एक ऑक्सीजन जेनरेशन प्लांट भी तैयार कराया जाएगा। इन 50 बेड वाले एल-1 प्लस हॉस्पिटल्स में से 10 बेड बच्चों के लिए आरक्षित रहेगा।”



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!